मप्र में ऑक्सीजन संकट नहीं, वेंटीलेटर और बिस्तर भी भरपूर: सारंग

मप्र में ऑक्सीजन संकट नहीं, वेंटीलेटर और बिस्तर भी भरपूर: सारंग

भोपाल। कोरोना महामारी मध्यप्रदेश ही नहीं पूरी दुनिया में तेजी से पांव पसार रही है। मप्र में अब तो मरीजों की संख्या हर दिन 2200 से अधिक पहुंच गई है। अस्पतालों में पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध हैं। आक्सीजन का अब कोई संकट नहीं, हमारे पास सरप्लस में है। वेंटीलेटर और बिस्तर भी पर्याप्त हैं। हर मरीज का इलाज सरकार की जिम्मेदारी है, लेकिन वैक्सीन बनने तक लोग स्वयं ही कोरोना से बचाव के उपाय अपनाएं। यह जानकारी प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने विशेष मुलाकात में दी। पिछले एक पखवाड़े से प्रदेश में आक्सीजन की उपलब्धता को लेकर उठ रहे सवालों पर उन्होंने कहा कि अब चिंता की कोई बात नहीं। महाराष्ट्र की जिस आईनॉक्स कंपनी के प्लांट से आक्सीजन आ रही थी, अब उसके उत्तरप्रदेश व गुजरात स्थित प्लांट से सप्लाई शुरू हो गई है। मप्र में इस कंपनी का प्लांट भी जल्द लगाया जाएगा। इसके अलावा भिलाई स्टील प्लांट से भी हमें हर दिन भरपूर आक्सीजन मिलेगी, जिसकी रिफिलिंग जबलपुर में होगी।

दूरी बनाकर चलें और मास्क लगाएं : मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं हर दिन कोरोना की समीक्षा कर रहे हैं। मरीजों की बढ़ती संख्या देख हम एक महीने आगे का आंकलन और व्यवस्थाएं सुनिश्चित करते हैं। हर मरीज का बढ़िया इलाज सरकार की जिम्मेदारी है। टेस्टिंग-इलाज के भरपूर इंतजाम हैं, लेकिन अपना बचाव तो स्वयं ही करना है। कोरोना को परास्त कर चुके सारंग का सुझाव है कि महामारी को हल्के में न लें। आपस में दूरी बनाकर चलें, हर समय मास्क लगाएं और भीड़-भाड़ से बचें। प्रस्तुत है मंत्री से चर्चा के मुख्य अंश...