शराब दुकानों के साथ खुलेंगे AC अहाते

 28 Feb 2020 11:50 AM  898

भोपाल | प्रदेश में विदेशी और देशी शराब दुकानों के साथ अहाता (शॉप बार) भी खुलेगा। विदेशी शराब दुकानों के साथ खुलने वाले अहाते वातानुकूलित (एयर कंडीशंड) होंगे। दुकान संचालकों को इसके लिए शॉप बार लाइसेंस लेना होगा, जिसका शुल्क सालाना ठेका मूल्य का दो फीसदी होगा। यह अलग से देय होगा। साथ ही जिलों में शराब दुकानों के समूह बनाने के लिए कलेक्टर की अध्यक्षता में समिति बना दी गई है। प्रदेश की पूर्ववर्ती शिवराज सरकार ने वर्ष 2018 में दुकानों के आसपास शराब पीने की वजह से ट्रैफिक जाम लगने, झगड़े होने और रहवासियों को परेशानी होने की शिकायतें आने के मद्देनजर अहाते बंद करवा दिए थे। वहीं, सरकार को राजस्व को नुकसान भी हो रहा था।

पिछले साल आ चुका है प्रस्ताव

वाणिज्यिक कर विभाग ने जुलाई 2019 में प्रस्ताव बनाकर कैबिनेट के लिए भेजा था पर इसे विचार करने के पहले ही लौटा दिया गया था। अक्टूबर 2019 में नीति में संशोधन करते हुए दुकान संचालकों को अहाते खोलने की अनुमति देने का प्रावधान किया गया, लेकिन दुकान संचालकों ने रुचि नहीं दिखाई। वाणिज्यिक कर विभाग के अधिकारियों का कहना है कि वित्तीय वर्ष समाप्त होने में पांच माह शेष होने की वजह से दुकान संचालक आगे नहीं आए थे।

पहली बार हाइब्रिड मॉडल

वाणिज्यिक कर विभाग के एसीएस आईसीपी केशरी का कहना है कि देश में पहली बार शराब दुकानों के संचालन के लिए हाइब्रिड मॉडल अपनाया गया है। इसके तहत मप्र के 16 जिलों में नीलामी के जरिए दुकानें दी जाएंगी।

चार शहरों में खुलेंगी विदेश निर्मित शराब की दुकानें

राज्य सरकार प्रदेश के चार बड़े शहरों भोपाल, इंदौर, जबलपुर एवं ग्वालियर के समृद्ध इलाकों में विदेशों में बनी एवं वहीं बोतलबंद शराब ब्रांडों की विशेष दुकानें खोलने की अनुमति देगी। विदेशों में बनी एवं वहीं बोतलबंद कर आयातित की गई इस विदेशी शराब को ‘बोटल्ड इन ओरिजिन’ बीआईओ कहा जाता है और इससे प्रदेश में महंगी शराब का नया बाजार खुलेगा। मध्यप्रदेश सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए अपनी नई आबकारी नीति में पिछले हμते इसकी घोषणा की है। प्रदेश के आबकारी आयुक्त राजेश बहुगुणा ने गुरूवार को बताया, ‘‘नई आबकारी नीति के तहत विदेशों में बनी और वहीं बोतलबंद महंगी प्रीमियम शराब को बेचने के लिए प्रदेश के कुछ बड़े शहरों में सीमित दुकानें खोलने की अनुमति दी जाएगी।