एलएसी पर सेना को फ्री हैंड ... जान का खतरा हो तो गोली मारने की छूट

एलएसी पर सेना को फ्री हैंड ... जान का खतरा हो तो गोली मारने की छूट
एलएसी पर सेना को फ्री हैंड ... जान का खतरा हो तो गोली मारने की छूट

नई दिल्ली ।  चीन से लगी 3,500 किमी की लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन का कोई भी दुस्साहस उसे बहुत भारी पड़ सकता है। इसके लिए भारत ने पूरी तैयारी कर ली है। रविवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शीर्ष सैन्य अधिकारियों के साथ बैठक कर सेना को चीन की किसी भी हरकत का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए फ्री हैंड दे दिया है। इसमें कहा गया है कि खतरे में जान हो तो वे हथियारों का इस्तेमाल कर सकते हैं। राजनाथ ने साफ कहा कि सेना चीन की हर हरकत का जवाब देने के लिए तैयार रहे। रक्षामंत्री के साथ हुई इस बैठक में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, आर्मी चीफ जनरल एम एम नरवणे, नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह और एयर चीफ मार्शल आर के एस भदोरिया ने हिस्सा लिया। पूर्वी लद्दाख के कई इलाकों में भारत और चीन की सेनाएं पिछले छह सप्ताह से आमनेसामने हैं। 15 जून की रात यह तनाव उस समय चरम पर पहुंच गया जब गलवान घाटी में हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे।

पैंगोंग झील पर बढ़ सकता है तनाव 

दरअसल, गलवान घाटी में मन की नहीं कर पाने के बाद चीन बौखला गया है। अब उसने पैंगोंग झील के 8 किलोमीटर इलाके को ब्लॉक किया है। ऐसे में आशंका है कि अगला विवाद पैंगोंग झील पर ही हो सकता है। यहां 5 और 6 मई को सेनाओं के बीच झड़प हो चुकी है। भारत की तैयारी इंडियन एयरफोर्स ने पिछले 5 दिन में लेह और श्रीनगर सहित वायु सेना के अहम अड्डों पर सुखोई 30 एमकेआई, जगुआर, मिराज 2000 विमान और अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर तैनात कर दिए हैं। एयरफोर्स के फाइटर जेट्स ने लद्दाख क्षेत्र में हवाई गश्त की है।

 समझौते के तहत सैनिक नहीं रखते थे हथियार 

गौरतलब है कि भारत और चीन की सेनाएं सीमा प्रबंधन पर हुए दो समझौतों के प्रावधानों के अनुरूप टकराव के दौरान हथियारों का फिर से इस्तेमाल नहीं करने पर आपसी रूप से सहमत हुई  थीं। इन समझौतों पर 1996 और 2005 में हस्ताक्षर हुए थे। एक सैन्य अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि अब से हमारा तरीका अलग होगा। ग्राउंड कमांडरों को स्थिति के अनुसार फैसला लेने की पूरी स्वतंत्रता दी गई है।

 राहुल ने मोदी को ‘सरेंडर मोदी’ लिखा, पर स्पेलिंग गलत हुई 

 लोग बोले- बच्चे को हार्वर्ड भेजेंगे तो सरेंडर को सुरेंदर ही लिखेंग

चीन विवाद के बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को लगातार पांचवे दिन पीएम मोदी पर सवाल उठाए। उन्होंने ट्वीट किया - ‘ नरेंद्र मोदी वास्तव में ‘सरेंडर मोदी’ हैं।’ हालांकि सरेंडर शब्द की स्पेलिंग राहुल से गलत हो गई और उन्होंने अंग्रेजी में सरेंडर की जगह सुरेंदर लिख दिया। ट्विटर यूजर्स ने राहुल को ट्रोल करते हुए लिखा- बच्चे को हार्वर्ड पढ़ने भेजेंगे तो वह सरेंडर को सुरेंदर ही लिखेंगे। राहुल ने शनिवार को भी मोदी के चीन के आगे सरेंडर करने की बात लिखी थी।