आजाद मार्केट रात 8 बजे बंद, बाकी बाजार खुले रहे

 22 Nov 2020 01:01 AM

भोपाल। राजधानी में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए न्यू मार्केट सहित अन्य व्यापारी संगठनों ने बैठक कर शनिवार से रात 8 बजे दुकानें बंद करने का निर्णय लिया था। हालांकि पहले दिन इस पर अमल नहीं हो सका। पुराने शहर के आजाद मार्केट को छोड़कर अन्य बाजारों में दुकानें रात 10 बजे तक खुली रहीं। हालांकि पुलिस ने रात 9.30 बजे के बाद ही अनाउंस कर दुकानें बंद कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। 10 बजे तक सभी बाजार बंद करा दिए गए। इधर, न्यू मार्केट के व्यापारियों का कहना है कि जब शासन ने रात 10 से सुबह 6 बजे तक कμर्यू लगाने की घोषणा की है, तो हम दुकानें रात 8 बजे क्यों बंद करें। त्योहारी और शादी विवाह का सीजन चल रहा है, लोग देर रात तक खरीददारी करने आते हैं। दुकानें रात 8 बजे बंद करने से व्यापार प्रभावित होगा। इधर, लखेरापुरा के कपड़ा सहित अन्य व्यापारी संगठनों का कहना है कि केवल एक व्यापारी संगठन ने बैठक में शिरकत कर सभी की ओर से निर्णय ले लिया । उनका कहना है कि सरकार की गाइडलाइन के अनुसार ही दुकानें बंद की जाएंगी। यदि सरकार रात 8 बजे दुकानें बंद करने का आदेश देगी, तो हम बंद कर देंगे।

न्यू मार्केट: रात 8.40 बजे

स्थिति:सभी दुकानें खुली हुई थीं और रोजाना की तरह भीड़भाड़ थी। दुकानदारों से बात की गई, तो उनका कहना था कि जब सरकार ने रात 10 से सुबह 6 बजे तक कर्यू का आदेश दिया है, तो हम रात आठ बजे दुकानें बंद क्यों करें। उनका कहना था कि दुकानदार कर्यू लगने के आधे घंटे पहले ही दुकानें बंद करेंगे, ताकि समय पर घर पहुंच सकें।

मारवाड़ी रोड: रात 8.20 बजे

स्थिति:मारवाड़ी रोड पर रोजाना की तरह चहल-पहल थी। यहां पर कॉपी किताब, प्लॉस्टिक और अन्य होलसेल की दुकानें बंद नहीं हुई थीं। इस बारे में व्यापारियों से बात की गई, तो उनका कहना था कि मार्केट को 9 बजे के बाद ही बंद किया जाएगा। शाम को ही ग्राहकी शुरू होती है। यदि 8 बजे मार्केट बंद कर दिया जाएगा, तो दिक्कतें होंगी।

लखेरापुरा: रात 8.30 बजे

स्थिति: यहां कपड़ा, आर्टिफिशियल ज्वेलरी सहित अन्य थोक व फुटकर सामान की दुकानें हैं। यह मार्केट भी 8.30 बजे तक बंद नहीं हुआ था। व्यापारियों का कहना था कि कपड़ा व्यापारियों की छह एसोसिएशन हैं। एक एसोसिएशन ने फैसला कर लिया, अन्य से सहमति नहीं ली गई। अन्य सभी एसोसिएशन रात 9.30 बजे दुकानें बंद करने के पक्ष में हैं।