भोपाल : मानसून के दस्तक देने के साथ ही सांपों का निकलना शुरू, बैरसिया में 10 साल के बच्चे की सांप के काटने से मौत, सांप निकलने पर इन्हें करें तत्काल फोन

 13 Jun 2021 04:18 PM

भोपाल। राजधानी समेत प्रदेश में मानूसन ने दस्तक दे दी है। मानसून के दस्तक देने के साथ ही सांपों का निकलना भी शुरू हो गया है। यदि आपके घर या आसपास कहीं भी किसी भी प्रकार का सांप निकलता है, उसे बगैर जोखिम उठाए तत्काल सर्प विशेषज्ञों को कॉल करें। 

सांप निकलने पर इन्हें करें तत्काल फोन 
भोपाल में इस मानसून अगर आपके घर पर या आस-पास कहीं भी सांप दिखे तो सर्प विशेषज्ञ को फोन करके बुलाएं। 

 

सर्प विशेषज्ञ क्षेत्र मोबाइल नंबर
सलीम भाई नगर निगम टी टी नगर 9425600658
डॉ. जफर खान अशोका गार्डन 9893661295
मुन्ना भाई डीआईजी बंगला 9303445671
लखनलाल मालवीय लाल घाटी 9303134142
दीवान आहूजा बैरागढ 9827376559
निखिल राउत मीनाल रेजीडेंसी 9424724258
खलील मियां कोलार 9203897732 
असलम डी आई जी बंगला 9826032234
राजा राम सूरज नगर, भदभदा 7587608535
आकाश पिपलानी 7999319147

सांप हमारे दुश्मन नहीं : सर्प विशेषज्ञ डॉ. जफर खान : 
बारिश का मौसम शुरू होते ही सांपों के निकलने का सिलसिला शुरू हो जाता है। बिलों में पानी भरने और उमस के कारण सांप घरों में आ जाते हैं। बरसात के मौसम में सर्पदंश की घटनाएं भी अधिक होती हैं। अधिकतर लोग सांपों से डरते हैं और इसी डर की वजह से सांपों को मार दिया जाता है, लेकिन सांपों की हमारे पर्यावरण में खास भूमिका है। वह बड़ी मात्रा में चूहों का भक्षण कर के फसलों को नुकसान से बचाते हैं। इसके अलावा सांपों के विष से कई जीवन रक्षक दवाईयां भी बनाई जाती हैं।

सर्पदंश से बचाव-
सांप हमेशा अपनी आत्मरक्षा में काटते हैं। आमतौर पर सांप इंसानों से दूर ही रहना पसंद करते हैं। कुछ बातों का ध्यान रख कर सर्पदंश की घटनाओं से बचा जा सकता है।

  • घरों में फालतू ,कचरा, कबाड़ा, लकड़ियां, पत्थर, घास, कंडे इत्यादि इकट्ठा न होने दें और न ही इन जगहों पर असावधानीपूर्वक हाथ डालें क्योंकि यह सांपों के छिपने के उपयुक्त स्थान हैं।
  • यदि घर में कोई बिल या दरार दिखाई दे तो उसे फौरन बंद कर दें ताकि कोई सांप इनमें आश्रय न ले सके।
  • रात को जमीन पर सोने से बचें क्योंकि सांप धरती पर रेंगते हैं और नीचे सोए हुए व्यक्ति को आसानी से काट सकते हैं।
  • यदि घर के दरवाजों के नीचे गैप है तो उसको कपड़े या डोर सील से बंद कर दें। अक्सर घरों में सांप दरवाजों के नीचे से ही अंदर आते हैं।
  • अगर घर में सांप निकल आए तो उसको मारने की कोशिश न करें, क्योंकि सर्पदंश की कई घटनाएं सांप को मारने या पकड़ने की कोशिश में होती हैं। सांप निकलने पर किसी सर्प विशेषज्ञ को बुलाएं।
  • सर्पदंश होने पर डसे गए स्थान के थोड़ा ऊपर डोरी या कपड़ा मध्यम दबाब के साथ बांध दें। घाव पर चीरा न लगाएं और मरीज को फौरन हॉस्पिटल लेकर जाएं। झाड़-फूंक में समय बर्बाद न करें। याद रखें सर्पदंश का एकमात्र सही इलाज 'एंटी स्नेक वेनम' का इंजेक्शन है।

 

भारत के चार मुख्य विषैले सांप-

  • कोबरा
  • करैत 
  • रसल वाइपर
  • सॉ स्केल्ड वाइपर

नोट- सांप को मारना वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के अंतर्गत अपराध है। सांपों से संबंधित किसी भी तरह की जानकारी या सहायता के लिए सर्प विशेषज्ञ डॉ. जफर खान उनके मोबाइल नंबर 9893661295 पर संपर्क किया जा सकता है। 

सांप के काटने से 10 साल के मासूम की गई जान
जिले के बैरसिया थाना क्षेत्र स्थित सोनकच्छ में शुक्रवार सुबह झुग्गी में सो रहे मासूम को सांप ने काट लिया, जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि करण अहिरवार पिता बाला प्रसाद अहिरवार (10) गांव सोनकच्छ में रहता था। घर में सोते वक्त सांप ने करण की पीठ पर काट लिया था। परिजन करण को तत्काल विदिशा और फिर बैरसिया अस्पताल लेकर पहुंचे। इस दौरान रास्ते में उसकी तबीयत बिगड़ गई और उसकी मौत हो गई।