Breaking News

जूडॉ-सरकार के बीच तकरार हुई तेज : मंत्री सारंग ने कहा-सरकार ने 3 साल का स्टायपेंड एक साथ बढ़ाया, जूडा ने कहा-लिखित आदेश आज तक नहीं मिला

 06 Jun 2021 01:39 PM

भोपाल। सरकार और जूनियर डॉक्टर्स के बीच तकरार खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। एक ओर जूनियर डॉक्टर्स सरकार के मुखिया और विभाग के मंत्री से मुलाकात करने की बात कर रहे हैं तो वहीं चिकित्सा शिक्षा विभाग के मंत्री विश्वास सारंग का कहना है कि हमारी सरकार संवाद स्थापित करने वाली सरकार है। दूसरी ओर मंत्री सारंग ने आज मीडिया से चर्चा करते हीु दावा किया है कि सरकार ने 3 साल का स्टायपेंड एक साथ इकट्ठा बढ़ाया है, तो इधर जूडॉ भोपाल प्रेसीडेंट डॉ. हरीश पाठक ने कहा कि हड़ताल जारी होने से लेकर अब तक हमारी मांगों को लेकर एक भी लिखित आदेश हमें नहीं मिला है। बता दें कि जूडॉ की हड़ताल का सिलसिला लगातार 7 दिनों से जारी है। जूडॉ का आरोप है कि सरकार उनकी मांगों को नहीं मान रही है। 

ट्राईज इंडेक्स के साथ हर साल 6 प्रतिशत इजाफा : सारंग
आज रविवार को मीडिया को संबोधित करते हुए मंत्री सारंग ने जूडा हड़ताल पर कहा हम लगातार बातचीत कर रहे है। हमने पहले भी कहा है कि हमारी सरकार संवाद स्थापित करने वाली है, लेकिन जूडॉ को हाईकोर्ट के आदेश का पालन करना चाहिए। मंत्री सारंग ने कहा कि मैंने पहले भी कहा है कि जूडॉ का स्टायपेंड 3 सालों से नहीं बढ़ा था, हमने तीन साल का स्टायपेंड एक साथ बढ़ाने का निर्णय ले लिया। यह शायद कहीं नहीं हुआ होगा। स्टायपेंड 2018 में बढ़ा, इसके बाद 2019, 2020 और 2021 तीनों का एक साथ बढ़ाकर ट्राईज इंडेक्स के साथ जोड़कर हर साल लगभग 6 प्रतिशत का इजाफा किया और हमने 17 प्रतिशत का इजाफा दे दिया है। 

ये भी पढ़े - जूडा प्रेसीडेंट ने सरकार से मिलकर हड़ताल खत्म करवाने की गुजारिश की, कहा - मरीजों को लेकर हम भी है चिंतित

सरकार से गुजारिश है की हमारी मांगों को समझें : जूडॉ
वहीं, जेडीए भोपाल प्रेसीडेंट डॉ. हरीश पाठक ने ब्लड डोनेट करते हुए एक वीडियो जारी करते हुए अपनी मांगों को सरकार के सामने रखा है। डॉ. पाठक ने कहा कि हम जो मांगे सरकार के सामने रख रहे हैं उन मांगों की सरकार ने अभी तक जवाबदारी नहीं ली है और न ही लिखित में कोई आदेश पारित किया गया है। हमने अपनी मांगों को हर दिन अलग-अलग स्वरूप में रखा है। इसी के चलते आज ग्लोबल कॉज के जरिए ब्लड डोनेशन कर अपना विरोध प्रकट कर रहे हैं। डॉ. पाठक ने कहा कि भले ही एक डॉक्टर अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करने के लिए बैठ जाए लेकिन वह कभी भी समाज का अनुचित नहीं सोच सकता है। कोविड काल में मरीजों को ब्लड की काफी कमी हो रही थी, जूडा के सदस्य अपने आंदोलन में बैठे हैं साथ ही साथ सभी सदस्य धीरे-धीरे कर ब्लड डोनेट कर रहे हैं। सरकार को अभी भी चीजें समझ नहीं आ रही है तो हमारी मरीजों से, सरकार से, आम जनता से गुजारिश है कि हमारी मांगों को समझें, डॉक्टर्स कभी भी जनता का गलत नहीं सोच सकते। वह अभी भी आपकी और जनता की भलाई के लिए सोच रहे हैं। हमारी मांगों को देखा जाए, समझा जाए और जल्द से जल्द पूरा किया जाए। 

सरकार ने तो संवेदनशील और दरियादिली दिखाई : सारंग 
मंत्री सारंग ने कहा कि जूडॉ मांग थी कि कोरोना के समय जूडॉ को नि:शुल्क इलाज मिले, हमने उन्हें ही नहीं बल्कि उनके परिजनों को भी नि:शुल्क इलाज का व्यवस्था कर दी। जूडॉ की सुरक्षा की व्यवस्था के लिए जगह-जगह चौकी की स्थापना के भी निर्देश दिए और तो और यह हमारे छोटे भाई युवा साथी हैं हमने आगे बढ़कर सरकार की ओर से सुनिश्चित किया हर साल ट्राइज इंडेक्स के माध्यम से स्वत: ही इनके स्टायपेंड में बढ़ोत्तरी हो जाए। सरकार ने तो बहुत ही संवेदनशील और हरियादिली दिखाकर उनकी बातों को माना है। 

ये भी पढ़े - जूडा प्रेसीडेंट ने सरकार से मिलकर हड़ताल खत्म करवाने की गुजारिश की, कहा - मरीजों को लेकर हम भी है चिंतित

हाईकोर्ट के निर्देश के अनुसार हड़ताल वापस लें जुडॉ
मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए मंत्री सारंग ने कहा कि हाईकोर्ट ने निर्णय दिया कि इस समय पर महामारी में हम सबाके अपने अधिकार की बात करते हुए अपने कर्तव्यों का भी बोध होना चाहिए। शपथ और संकल्प का परिपालन करना हम सबके लिए बहुत आवश्यक है। मुझे उम्मीद है कि हमारे युवा साथी बात मानेंगे और तत्काल हाईकोर्ट के निर्देश अनुसार हड़ताल वापस लेंगे। सरकार ने उनसे बात पहले भी की है, अभी भी कर रहे हैं आगे भी करेंगे। हमें कोई दिक्कत नहीं है। मरीजों का हित हम सबके लिए सर्वोपरि है। मरीज निश्चित रूप से इस समय सबकी सेवा के लिए प्रतीक्षा कर रहे हैं। मंत्री सारंग ने कहा कि मैं जूडा से यही अपील कर रहा हूं कि जूडॉ अपनी हड़ताल वापस लें। सरकार ने बात मानी है उनका सम्मान रखा है हम सबको हाईकोर्ट का भी सम्मान रखना चाहिए, मरीजों का भी सम्मान रखना चाहिए।  चाएि मरीजों का भी सम्मान रखना चाएिह। 

(जूडॉ ने आज पीपीई किट और आॅक्सीजन मास्क पहन विरोध का तरीका अपनाया)

 

मंत्री सारंग ने कांग्रेस पर फिर साधा निशाना
कांग्रेस के नेताओं पर निशाना साधते हुए मंत्री सारंग ने कहा कि बहुत सारे कांग्रेस के नेताओं के वीडियो और ट्वीट देखे। मैं कांग्रेस के नेताओं से पूछना चाहता हूं कि 15 माह कमलनाथ सरकार रही। उस समय जूडा के हित में एक भी निर्णय लिया क्या? हमारी सरकार बनने के बाद तो हमने जूडा की बीमा योजना से लेकर स्टायपेंड बढ़ाने की बात की। तीन साल तो उनका स्टायपेंड नहीं बढ़ा तो कमल नाथ ने क्यों नहीं बढ़ाया? सारंग ने कहा कि आज मैं देख रहा हूं कि कांग्रेस के बड़े नेता बातचीत कर रहे हैं। इस बात का जवाब तो देना पड़ेगा कि उनकी सरकार थी तब स्टायपेंड क्यों नहीं बढ़ाया? आज कोरोना के काल में निवेदन है कि मरीजों के हित में हम सबको एक स्वर में मरीजों के इलाज में लगना चाहिए।