हमारे शरण गच्छामि हुए बगैर कोई सरकार नहीं बना सकता

 18 Oct 2020 12:36 AM  61

भोपाल। आमतौर पर उपचुनाव से परहेज करने वाली बसपा ने पहली बार सभी 28 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं। पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष रमाकांत पिप्पल का दावा है कि वह इस बार किंगमेकर की भूमिका अदा करने जा रहे हैं। कांग्रेस और भाजपा शरणम गच्छामि हुए बगैर सरकार नहीं बना सकते हैं। जीत के दावे को लेकर उनका कहना है कि हम अभी आंकड़ा नहीं बता रहे हैं लेकिन इतना तय है कि दोनों दल हमारे बगैर सरकार नहीं बना सकते हैं।

कांग्रेस और भाजपा दोनों की नीति छल कपट की, इसलिए तीसरे विकल्प में हमें देख रही है

बसपा किन मुद्दों को लेकर किंग मेकर की तैयारी कर रही है?

एट्रोसिटी एक्ट को लेकर हमारे लोगों पर झूठे प्रकरण का विरोध, प्रदेश में दलित अत्याचार, लॉक डाउन के दौरान प्रवासी मजूदरों की स्थिति, पिछड़ा वर्ग को आरक्षण,कृषि एक्ट, भाजपा का खरीद फरोख्त कर सरकार बनाना आदि कई सारे मुद्दे है।

कांग्रेस गद्दार और भाजपा टिकाऊ का मसला उछाल रही है, दोनों को कैसे देखते हैं?

दोनों दलों की नीति छल कपट , दलित और गरीबों का शोषण करने वाली रही है। जनता दोनों का विकल्प हमारे रूप में तलाश रही है।

बसपा की इस उपचुनाव में क्या भूमिका रहेगी?

हम किंगमेकर रहेंगे। हमारे बिना दोनों दल सरकार नहीं बना सकते हैं। हमारी भूमिका तगड़ी रहेगी।

जब आप कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं, तब किस आधार पर सरकार का समर्थन देंगे यह राष्ट्रीय मुद्दा है। यह बहन मायावती तय करेगी कि सत्ता की चाबी किसे सौंपना है । यह बहन जी के हाथों में रहेगी

बसपा ने भी अन्य दलों की तरह दलबदलुओं पर भरोसा जताया है। इनपर कितना भरोसा है?

कार्यकर्ताओं की मांग पर तीन लोगों को टिकट दिया गया है। कार्यकर्ताओं ने जिताने का भरोसा दिलाया है। कार्यकर्ताओं के निवेदन मानना ही पड़ता है।

भाजपा और कांग्रेस की तरह आपकी बूथ स्तर पर क्या तैयारियां है? चुनाव मैदान में परफार्मेंस दिखाने से पहले हमने संगठन स्तर और बूथ स्तर पर तगड़ी तैयारी की है। जब तक हमारी पार्टी का उम्मीदवार नहीं जीत जाता, तब तक कार्यकर्ता बूथ से हटेगा नहीं।