सुल्तानिया अस्पताल 6 माह में गांधी मेडिकल कॉलेज परिसर के बी-ब्लॉक में होगा शिफ्ट : सारंग

 02 Dec 2020 09:52 PM

भोपाल सुल्तानिया जनाना अस्पताल को आगामी 6  माह में गांधी मेडिकल कॉलेज परिसर(जीएमसी) के बी-ब्लॉक में शिफ्ट किया जाएगा। वर्तमान में सुल्तानिया अस्पताल में 180 बेड हैं, इनकी संख्या बढ़ाकर 300 बेड की प्लॉंनग की जाएगी। उसी के अनुसार ही बी-ब्लॉक में तैयारियां हों। सुल्तानिया की मेटरनिटी वग और गांधी मेडिकल कॉलेज परिसर में स्थित पीडियाट्रिक वग दोनों एक ही जगह पर रखा जाएगा। इससे जज्चा और बच्चा दोनों को एक ही जगह इलाज मिल सकेगा। वर्तमान में सुल्तानिया में जन्में बच्चें को यदि कोई सीरियस प्राब्लम होती है तो उसे हमीदिया की पीडियाट्रिक वग में शिफ्ट करना पड़ता है। जो बहुत दूर पड़ता है। यदि सुल्तानिया अस्पताल जीएमपी परिसर में शिफ्ट होगा तो यह बड़ी उपलब्धि होगी। 

यह बात बुधवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने गांधी मेडिकल कॉलेज और हमीदिया अस्पताल का निरीक्षण करने के दौरान कहीं। इस दौरान उन्होंने को-वैक्सीन के ट्रॉयल के लिए जीएमसी की लायब्रेरी में बनाए गए सेंटर को भी देखा और जल्द ही वैक्सीन के ट्रायल जल्द शुरू होने की बात कही। निरीक्षण के दौरान संभागायुक्त कवींद्र कियावत, संचालक स्वास्थ्य निशात वरवड़े, जीएमपी डीन डॉ. अरुणा कुमार सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी मौजूद थे। 


कैज्युअल्टी रजिस्ट्रेशन के लिए जाने वाली सीढ़ियां करें दुरुस्त, काउंटर की बदलें व्यवस्था - 
चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने हमीदिया अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होने केज्युअल्टी रजिस्टेशन काउंटर की ओर जाने वाली सीढ़ियों को देखकर जमकर नाराजगी जताई। ये सीढ़ियां आवाश्यकता से अधिक ऊंची थीं। मरीजों व उनके परिजनों को चढ़ने मे दिक्कतें हो रही थीं। यही नहीं काउंडर भी गलत जगह थे। मंत्री ने काउंटर का मुंह दूसरी ओर करने तथा सीढ़ियों को दुरुस्त करने क निर्देश दिए। उन्होंने अस्पताल के अधीक्षक को शो-कॉज नोटिस देने को भी कहा। उन्होंने ओपीडी की व्यवस्थाओं का जायजा लिया और डॉक्टर्स से चर्चा की। उन्होंने उपकरणों के सुचारू संचालन की जानकारी भी ली।

बी-ब्लॉक को जल्द से जल्द करें तैयार - 
मंत्री सारंग ने सुल्तानिया अस्पताल की मेटरनिटी वग को शिफ्ट किए जाने वाले बी- ब्लॉक की तैयारियों को भी देखा। वर्तमान में वहां फर्नीचर बनना है। यही नहीं यहां सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के निर्माण का कार्य भी चल रहा है। ऐसे में यहा तत्काल में अस्पताल शिफ्ट नहीं हो सकता है। मंत्री ने इन कार्यों को जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिए।