भास्कर के मालिकों ने घर के पास बहने वाले नाले की जमीन भी कब्जा ली, बना लिया गार्डन

 27 Jul 2021 11:33 AM

भोपाल दैनिक भास्कर समूह के मालिकों ने ई- 1, अरेरा कॉलोनी में अपने बंगले का दायरा बढ़ाने के लिए सरकारी नाले की जमीन भी नहीं छोड़ी। नाले के आसपास की जमीन पर कब्जा कर उस पर गार्डन बना लिया। नाला पाट दिए जाने के कारण पानी की निकासी रुक गई है। इससे बारिश में यह नाला आसपास रहने वालों के लिए मुसीबत बनता है। कई दशक पहले राजस्व विभाग ने ई-1, अरेरा कॉलोनी में प्लॉट, लीज पर आवंटित किए थे। इसमें 8000 वर्ग फीट का प्लॉट क्रमांक-79 सुधीर अग्रवाल पिता रमेशचंद्र अग्रवाल ने 30 वर्ष की लीज पर लिया था। इसकी लीज अवधि 2024 तक खत्म होगी। यह प्लॉट नाले के पास है। भास्कर समूह के मालिकों ने नाले व आसपास की जमीन पर कब्जा कर गार्डन बना लिया है। भास्कर के मालिकों के रसूख के चलते जिला प्रशासन और नगर निगम अधिकारियों ने इस पर ध्यान नहीं दिया।

जानकारी के बाद भी चुप्पी साधे रहे प्रशासन, निगम अधिकारी

भास्कर के मालिकों ने नाले की जिस जमीन पर गार्डन बनाया है, वह जमीन टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के नक्शे में आज भी नाले और खाली भूमि के रूप में दर्ज है। नियमों को ताक पर रखकर बनाए गए इस गार्डन की जानकारी जिला प्रशासन और नगर निगम को भी है, लेकिन सब चुप्पी साधे हुए हैं।

अतिक्रमण की श्रेणी में आता है नाले की जमीन पर कब्जा

नाले पर कब्जा अतिक्रमण की श्रेणी में आता है। भू-राजस्व संहिता की धारा-248 के तहत संबंधित सर्कल या तहसील का अधिकारी सरकारी जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराने के लिए कार्रवाई कर सकता है। अतिक्रमण हटाने का खर्च संबंधित से वसूल किए जाने का प्रावधान भी है।

नाला पटने से मुख्य सड़क और आसपास भरता है बारिश का पानी

भास्कर समूह के मालिकों ने जिस नाले पर कब्जा कर उसे पाट दिया और गार्डन बना लिया है, वह करीब 15 फीट चौड़ा है। कभी तेज बारिश में भी पानी इतने चौड़े नाले के जरिए आसानी से बाहर निकल जाता था। लेकिन अब नाला अवरुद्ध हो जाने के कारण बारिश के सीजन में पानी की निकासी पूरी तरह रुक जाती है। ऐसे में तेज बारिश होने पर यह नाला ओवरμलो हो जाता है और आसपास की कई कॉलोनियों के अलावा मेन रोड पर जलभराव जैसी स्थिति बनती है। इससे आम लोगों को परेशानी उठानी पड़ती है।

मौका परीक्षण कराकर की जाएगी उचित कार्रवाई

नगर निगम आयुक्त वीएस चौधरी कोलसानी से जब पूछा गया कि नाले पर कब्जा करने के मामले में निगम ने अब तक क्या कार्रवाई की , तो उनका जवाब था कि मौका परीक्षण कराने के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी।