जनता रोए ‘प्याज के आंसू’

 24 Oct 2020 01:01 AM

भोपाल। अक्टूबर खत्म होने से पहले ही एक बार फिर देश में प्याज-प्याज की आवाज उठनी शुरू हो गई हैं। मुंबई, चेन्नई जैसे शहरों में इसके फुटकर रेट 85 रुपए से ऊपर तक पहुंच गए। मप्र के थोक बाजार में प्याज के दाम दो दिन में ही 40-45 रुपए बढ़ गए हैं। तीन दिन पहले जो प्याज 15-20 रुपए बिक रही थी, अब वह 60 रुपए किलो मिल रही है। प्याज में तेजी का यह रुख बना रहेगा, क्योंकि इस साल प्रदेश में ‘जलेबी’ रोग से तो वहीं महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश और कर्नाटक में बारिश से प्याज की फसल आधे से ज्यादा चौपट हो चुकी है। आलम यह है कि देश में सर्वाधिक प्याज उत्पादक महाराष्ट्र में पहली बार मप्र से प्याज भेजी जा रही है।

केंद्र ने कहा- बफर स्टॉक से 28 रुपए किलो प्याज ले सकते हैं राज्य

केंद्र सरकार नासिक, महाराष्ट्र के बफर स्टॉक से 26-28 रुपए प्रति किलोग्राम की खरीद दर पर उन राज्यों को प्याज की पेशकश कर रहा है, जो अपने आप स्टॉक उठाना चाहते हैं। जिन राज्यों को प्याज पहुंचाये जाने की जरूरत है, उनके लिए कीमत 30 रुपए प्रति किलोग्राम होगी।

कई जगह 75 रु. तक रेट

देश के कई हिस्सों में प्याज की खुदरा कीमतें 75 रुपए प्रति किलो के स्तर को भी पार कर गई हैं। प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए केंद्र सरकार ने आयात नियमों भी ढील दी गई है।

केरल पहुंची 27 टन प्याज

नेफेड से खरीदी गई 27 टन प्याज की पहली खेप महाराष्ट्र के नासिक से शुक्रवार को तिरुवनंतपुरम पहुंची। केरल में पिछले हμते प्याज की कीमत 100 रुपए पहुंच गई थी।

दाम और बढ़ेंगे

इंदौर मंडी में प्याज थोक भाव 40 से शुरू होकर 60 रुपए पर खत्म हुआ है। अगले हμते तक 5 से 15 रुपए तक और बढेÞंगे।

प्याज कम आ रही

भोपाल मंडी में 55 से 60 रुपए किलो का थोक भाव रहा। इस बार यहां से महाराष्ट्र प्याज जा रही है और दूसरे राज्यों से आ नहीं रही है।