महिलाओं ने उगते सूर्य देव को अर्घ्य देकर 36 घंटे का निर्जला व्रत खोला

 22 Nov 2020 01:05 AM

भोपाल। भोजपुरी समाज के चार दिवसीय छठ महोत्सव का शनिवार को उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ समापन हुआ। व्रतधारी महिलाओं ने प्रात: शीतल दास की बगिया, प्रेमपुरा, खटलापुरा, झूलेलाल विसर्जन घाट सहित अन्य घाटों पर प्रात: चार बजे पहुंचकर पूजा की और उगते सूर्य को अर्घ्य देकर 36 घंटे का व्रत खोला। समाज के अध्यक्ष कुं वर प्रसाद ने बताया कि छठ महोत्सव के अंतिम दिन शनिवार को प्रात: व्रतधारी महिलाएं बांस के बर्तनों में सामग्री लेकर पहुंचीं। यहां पर पकवानों और फलों से पूजा की। इसके बाद तालाब में कमर तक पानी में खड़े होकर गाय के कच्चे दूध से उगते सूर्य को अर्घ्य दिया और महाप्रसादी ग्रहण कर 36 घंटे का व्रत खोला। अंतिम दिन शीतलदास की बगिया स्थित घाट पर मुख्य अतिथि भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा मौजूद रहे। उन्होंने बताया कि घाट पर गाय के कच्चे दूध, दीपदान के लिए दीयों व बाती और व्रत धारियों के लिए नि:शुल्क स्वल्पाहार की व्यवस्था की। यहां भजन-गीतों के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। छठ पूजा के समापन पर भोजपुरी एकता मंच के पदाधिकारियों व शिव वचन प्रजापति, आरती कुमारी, रीमा देवी, धनधारी महतो, राधा देवी, गीता देवी, अनीता देवी, शैलेंद्र चौहान, आशीष प्रजापति सहित नगर निगम के कर्मचारियों ने घाट की सफाई की। वहां मौजूद लोगों को महाप्रसाद वितरित किया गया।