अडानी ने स्नाम के साथ सहयोग करने की घोषणा की

 08 Nov 2020 12:57 AM

अहमदाबाद। अडानी ग्रुप ने इटली स्थित यूरोप की प्रमुख गैस इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी स्नाम के साथ रणनीतिक सहयोग की घोषणा करके राष्ट निर्माण की अपनी विरासत में एक नया अध्याय जोड़ा है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और इतालवी प्रधान मंत्री, ग्यूसेप कोंटे के बीच वर्चुअल शिखर सम्मेलन के एक अभिन्न अंग के रूप में यह सहयोग, भारत और वैश्विक बाजारों में हाइड्रोजन वैल्यू चेन की खोज के साथ बायोगैस, बायो मीथेन और लो कार्बन के विकास पर भी विचार करेगा। अडानी ग्रुप के चेयरमैन, गौतम अडानी ने कहा कि आगामी 2030 तक भारत के 450 गीगावॉट रिन्यूएबल एनर्जी हासिल करने के लक्ष्य के अनुरूप, अडानी ग्रुप ने दुनिया के सबसे महत्वाकांक्षी कार्बन आफसेट प्रोग्राम में से एक पर काम शुरू कर दिया है। स्थिरता और जरूरत के व्यापक पैमाने पर हमारी सरकार की प्रतिबद्धता को देखते हुए, भारत लो कार्बन इलेक्ट्रिसिटी टेक्नोलॉजी के लिए सबसे आकर्षक ट्रांजिशन मार्केट्स में से एक होगा। हम इस एनर्जी मिक्स ट्रांजिशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का इरादा रखते हैं। दुनिया की सबसे बड़ी सौर ऊर्जा कंपनी के रूप में हाल ही में हुई हमारी रैंकिंग हमारे इरादे का प्रमाण है और हम अपने एनर्जी पोर्टफोलियो में विविधता लाना जारी रखेंगे। इसलिए, स्नाम के साथ हमारी बहु-आयामी साझेदारी में कई रणनीतिक बारीकियां शामिल हैं। ऊर्जा उत्पादन को एक साथ विकेंद्रीकृत और विघटित करने की क्षमता और ग्रामीण भारत को स्वच्छ ऊर्जा और खाना पकाने के लिए ईंधन प्रदान करने में सक्षम होना, एक राष्टय आवश्यकता है जिसे हमें पूरा करना चाहिए और ऐसी तकनीकें जो आर्थिक रूप से बायोगैस और बॉयोमीथेन का उत्पादन करने में मदद कर सकती हैं, हमारे लिए उचित विकल्प हैं। इसी के साथ, रिन्यूएबल एनर्जी का उपयोग करके 100%ग्रीन हाइड्रोजन का उत्पादन करने के लिए स्केल और टेक्नोलॉजी का लाभ उठाने की क्षमता, उपयोगकर्ताओं और औद्योगिक समूहों के एक समूह के लिए सेवा प्रदान करने का सबसे किफायती और स्वच्छ तरीका है।