होम लोन महंगा होना शुरू, एसबीआई ने ब्याज दरों में की बढ़ोतरी; जानें कितना बढ़ा इंट्रेस्ट रेट

 05 Apr 2021 02:13 PM

नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई ने होम लोन पर इंट्रेस्ट रेट बढ़ा दिया है। एक अप्रैल 2021 से होम लोन की न्यूनतम ब्याज बढ़ गई है। एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार, ग्राहकों के लिए इस महीने से होम लोन की न्यूनतम दर 6.95 फीसदी हो गई है। पिछले महीने तक यह 6.70 फीसदी थी। यानी इसमें 0.25 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है। 

एसबीआई ने सीमित अवधि के लिए 75 लाख रुपए तक का होम लोन 6.70 फीसदी ब्याज पर देने की पेशकश की थी। वहीं 75 लाख से पांच करोड़ रुपए के होम लोन पर ब्याज दर 6.75 फीसदी थी। एसबीआई की वेबसाइट पर डाली गई सूचना के अनुसार 6.95 फीसदी की नई ब्याज दर एक अप्रैल से प्रभावी हो गई है। नई दरें सीमित अवधि की पेशकश की तुलना में 0.25 फीसदी अधिक हैं। एसबीआई द्वारा होम लोन की न्यूनतम दरों को बढ़ाए जाने के बाद अन्य बैंक भी इसी तरह कदम उठा सकते हैं।

अन्य बैंक भी उठा सकते हैं कदम
पिछले महीने तक एसबीआई ने सीमित अवधि के लिए 75 लाख रुपये तक का आवास ऋण 6.70 फीसदी ब्याज पर देने की पेशकश की थी। वहीं 75 लाख से पांच करोड़ रुपये के आवास ऋण पर ब्याज दर 6.75 फीसदी थी। एसबीआई द्वारा आवास ऋण की न्यूनतम दरों को बढ़ाए जाने के बाद अन्य बैंक भी इसी तरह कदम उठा सकते हैं। 

इतनी लगेगी प्रोसेसिंग फीस
बैंक ने होम लोन पर एकीकृत प्रोसेसिंग शुल्क भी लगाया है। यह लोन की राशि का 0.40 फीसदी और जीएसटी के रूप में होगा। प्रोसेसिंग शुल्क न्यूनतम 10,000 रुपए और अधिकतम 30,000 रुपए (और जीएसटी) होगा। पिछले महीने एसबीआई ने होम लोन पर प्रोसेसिंग शुल्क 31 मार्च तक माफ करने की घोषणा की थी।

होम लोन पर इंट्रेस्ट रेट एक दशक में सबसे कम
अगर आप घर खरीदने का प्लान बना रहे हैं तो यह सही समय है। दरअसल हाई लिक्विडिटी के बीच जनरल क्रेडिट डिमांड वांछित स्तर से नीचे रहने के बीच देश के प्रमुख बैंकों ने अपनी होम लोन दरों को घटाकर एक दशक के निचले स्तर पर ला दिया है। इनमें भारतीय स्टेट बैंक, एचडीएफसी लिमिटेड, आईसीआईसीआई बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक शामिल हैं।

कोरोना काल में नीतिगत दर 2 फीसदी घटी
भारतीय रिजर्व बैंक भी बैंकों से ब्याज दरों में नीतिगत दरों में आई कमी के अनुरूप कटौती के लिए दबाव बना रहा है। मार्च, 2020 से रिजर्व बैंक ने रेपो रेट को 2 फीसदी घटाकर 4 फीसदी कर दिया है। हालांकि, इसके बावजूद लोन की मांग 6 फीसदी से कम है। अब एसबीआई ने इंट्रेस्ट रेट बढ़ाया है तो संभव है कि दूसरे बैंक भी होम लोन पर ब्याज दरों में इजाफा करें।