व्यापक आर्थिक सुधारों के चलते बेहतर हुईभारत की व्यापार रैंकिंग

 24 Jul 2021 01:08 AM

नई दिल्ली भारत ने यूएनईएससीएपी के डिजिटल और सतत् व्यापार सुगमीकरण पर वैश्विक सर्वेक्षण में 90.32 प्रतिशत अंक हासिल कर उल्लेखनीय सुधार हासिल किया है। सर्वेक्षण 2021 में 143 अर्थव्यवस्थाओं के मूल्यांकन के बाद पाया गया कि भारत ने सभी महत्वपूर्ण संकेतकों....पारदर्शिता, औपचारिकतााएं, संस्थागत व्यवस्था और सहयोग, कागज रहित व्यापार और सीमा पार कागज रहित व्यापार... उल्लेखनीय सुधार किया है। भारत ने डिजिटल और सतत् व्यापार सुगमीकरण पर वैश्विक सर्वे में 90.32 प्रतिशत अंक हासिल किया। यह 2019 में 78.49 प्रतिशत के मुकाबले महत्वपूर्ण सुधार है। पारदर्शिता संकेतक के तहत देश ने 2021 में 100 प्रतिशत अंक हासिल किया जो 2019 में 93.33 प्रतिशत था। कागज रहित व्यापार के मामले में अंक 96.3 प्रतिशत रहा जो 2019 में 81.48 प्रतिशत था। संस्थागत व्यवस्था और सहयोग के मामले में भारत का अंक सुधरकर 88.89 प्रतिशत रहा जो 2019 में 66.67 प्रतिशत था। वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि डिजिटल और सतत् व्यापार सुविधा पर संयुक्त राष्ट्र के वैश्विक सर्वेक्षण में भारत ने अंक हासिल करने में महत्वपूर्ण सुधार किया है। इसमें कहा गया है कि केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) विभिन्न सुधारों को आगे बढ़ाने में अगुआ रहा है। उसने महत्वपूर्ण सुधार तुरंत कस्टम के माध्यम से बिना आमने-सामने आए (फेसलेस), कागज रहित (पेपरलेस) और संपर्क रहित (कांटेक्टलेस) सीमा शुल्क व्यवस्था को आगे बढ़ाया। मंत्रालय ने कहा कि इससे यूएनईएससीएपी की डिजिटल और सतत व्यापार सुविधा की रैकिंग में सुधार को लेकर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा। एशिया प्रशांत के लिये ईएससीएपी संयुक्त राष्टÑ के क्षेत्रीय केंद्र के रूप में कार्य करता है।