निवेशकों को नए वित्त वर्ष में 32 आईपीओ में निवेश का मिलेगा मौका, जारी रहेगी धूम

 04 Apr 2021 12:34 AM

मुंबई। शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव के बीच निवेशकों के लिए आईपीओ में निवेश के लगातार मौके मिल रहे हैं। इससे एक तरफ कंपनिया तो रकम जुटा ही रही हैं, दूसरी ओर निवेशकों की जेब भी भर रही है। पिछला वित्त वर्ष इसका अच्छा उदाहरण रहा, जिसमें कुल 30 कंपनियों के आईपीओ लॉन्च हुए और 31 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के फंड जुटाए। 3 महीने में करीब 16 हजार करोड़ रुपए: खास बात यह है कि 2021 के शुरुआती 3 महीने में ही कंपनियों ने आईपीओ के जरिए करीब 16 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा फंड जुटाए हैं। डेटा के मुताबिक, 2008 के बाद पिछले 13 सालों में किसी भी साल के शुरुआती 3 महीनों में आईपीओ के द्वारा भारतीय कंपनियों द्वारा जुटाई गई यह सबसे बड़ी रकम है

3 साल बाद आईपीओ लॉन्चिंग में होड़

2020-21 के दौरान लॉन्च हुए आईपीओ की संख्या और साइज के लिहाज से यह तीन साल में सबसे ज्यादा है। इससे पहले वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान 45 आईपीओ खुले थे। जबकि वित्त वर्ष 2019-20 में 13 कंपनियों ने आईपीओ के जरिए 20,352 करोड़ रुपए और वित्त वर्ष 2018- 19 में 14 कंपनियों ने अपने पब्लिक इश्यू के जरिए 14,719 करोड़ रुपए जुटाए थे। 31 मार्च को समाप्त वित्त वर्ष में सबसे बड़ा आईपीओ ग्लैंड फार्मा ने अपने आईपीओ से 6,480 करोड़ रुपए जुटाए। इसके बाद सरकारी कंपनी इंडियन रेलवे फाइनेंस कॉर्पोरेशन यानी आईआरएफसी ने 4,633 करोड़ रुपए जुटाए। इसके अलावा एंजेल ब्रोकिंग, कल्याण ज्वेलर्स, रोस्सारी बायोटेक, होम फर्स्ट फाइनेंस कंपनी, रेलटेल कॉर्पोरेशन, बार्बीक्यू नेशन और सूर्योदय स्मॉल फाइनेंस कॉर्पोरेशन ने आईपीओ लॉन्च किए।

एमटीएआर टेक को निवेशकों से मिला जबरदस्त रिस्पांस

इस दौरान निवेशकों ने चुनिंदा इश्यू पर ज्यादा फोकस किया। सब्सक्रिप्सन के लिहाज से एमटीएआर टेक का आईपीओ सबसे ज्यादा 200 गुना सब्सक्राइब हुआ था। वहीं, मिसेस बैक्टर्स फूड का इश्यू 198 गुना सब्सक्राइब हुआ था। दूसरी ओर अन्य 8 आईपीओ 100 गुना से ज्यादा सब्सक्राइब हुए, जिनमें बर्गर किंग, मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स, हैपिएस्ट माइंड्स, लक्ष्मी आॅर्गोनिक इंडस्ट्रीज, नजारा टेक, इजी ट्रिप प्लानर्स, इंडियो पेंट्स और केमकॉन स्पेशियलिटी केमिकल्स के आईपीओ शामिल हैं।

ज्यादा आईपीओ आने की वजह

􀂄 भारी मात्रा में विदेशी निवेश

􀂄 मजबूत कॉर्पोरेट अर्निंग

􀂄 केंद्र सरकार द्वारा खर्च भारी

रकम जुटाने में भारतीय कंपनियां टॉप

विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) और नए रिटेल निवेशकों ने पिछले 1 साल में आईपीओ में दिल खोलकर निवेश किया है, जिससे 2020 में आईपीओ के जरिये फंड्स जुटाने में भारत, अमेरिका और चीन के बाद तीसरे नंबर पर रहा और यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। नतीजतन चालू वित्त वर्ष 2021-22 में कम से कम 32 कंपनियां आईपीओं लॉन्च करने को तैयार हैं, जो करीब 41 हजार करोड़ रुपए जुटाएंगी।

आगे भी निवेश के मौके

आईपीओ लाने के लिए एलआईसी, एचडीबी फाइनेंशियल सविर्सेज, एनसीडीईएक्स, ईएसएएफ फाइनेंस बैंक, जोमैटो जैसी कई कंपनियां कतार में हैं।