कोविड-19 : इन्टास ने रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने वाली ‘थाइमोटास’ दवाई लॉन्च की

 19 Nov 2020 01:26 AM

भोपाल। इन्टास ने रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने वाली और संक्रमण के उपचार में सफलता सुनिश्चित करने वाली थाइमोक्विनोन की एक नवीनतम और सायन्टिफिक फॉर्म्यूलेशन संशोधात्मक रचना थाइमोटास लॉन्च की है। थाइमोटास कोविड-19 के मानक उपचार में असरकारक सहायक के तौर पर नैदानिक रुप से परीक्षण किया गया है। थाइमोक्विनोन (थाइमोटास) नाइजेला सटिवा (जिसको कलौंजी एवं काली जीरी के नाम से भी जाना जाता हैं) के एक्टिव बायोलॉजिकल कोम्पोनन्ट है। थाइमोक्विनोन के लाभकारी औषधीय गुणों साबित करने के लिए विभिन्न वैज्ञानिक प्रकाशन उपलब्ध है। इन्टास द्वारा विश्व में पहलीबार थाइमोक्विनोन को स्थिर, मानकीकृत और रेडी-टु-युज टैब्लट के रुप में विकसित किया गया है। थाइमोटास एंटी-वायरल, एंटी- बैक्टीरियल, एंटी-इंलेमेटरी, इम्यूनोमॉड्यूलेटरी और एंटीआक्सिडेंट के तौर पर रोग प्रतिरोधक शक्ति को मज़बूत करता है और संक्रमण से लड़ता है। कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसिडन्ट डॉ. आलोक चतुर्वेदी ने कहा कि वर्तमान महामारी के समय में रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने और संक्रमण के सामने लड़ने के लिए थाइमोटास 12.5 मिलिग्राम प्रभावी रुप से बहुत उपयोगी है। डबल्यू.एच.ओ.-जी.एम.पी. सर्टिफाइड प्लान्ट में निर्मित थाइमोटास रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने एवं संक्रमण रोकने में उपचारक के तौर पर हर रोज भोजन के बाद 12.5 मिलिग्राम की एक टैब्लट या डॉक्टर से परामर्श अनुसार प्रयोग करने की सिफारिश की जाती है।