मिरै म्यूचुअल फंड ने कमीशन में की कटौती नाराज एजेंट बोले-अब नहीं बेचेंगे कोई स्कीम

 18 Apr 2021 12:56 AM

मुंबई। मिरै असेट म्यूचुअल फंड ने वितरकों (एजेंट) को दिए जाने वाले कमीशन में अपनी 3 स्कीम में कटौती की है। इससे इसके एजेंट नाराज हैं। हालांकि जिन स्कीम के कमीशन में कटौती की गई है, उनका प्रदर्शन पिछले 1 साल में बेहतर रहा है। मिड कैप, फोकस्ड फंड और टैक्स फंड पर कमीशन कम - मिरै ने जिन स्कीम के कमीशन में कटौती की है, उसमें मिड कैप फंड रहा है, जिसे करीबन 20 महीने पहले लॉन्च किया गया था। इसका असेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 4,224 करोड़ रुपए है। इसने 1 साल में 90% का रिटर्न निवेशकों को दिया है। इसी तरह मिरै असेट फोकस्ड फंड के भी कमीशन में कटौती की गई है। इस फंड ने 1 साल में निवेशकों को 79% का रिटर्न दिया है। इसका एयूएम 5,472 करोड़ रुपए रहा है। तीसरा फंड मिरै असेट टैक्स सेवर है, जो पांच साल पुरानी स्कीम है। इसने 1 साल में 77% का फायदा निवेशकों को दिया है। इसका एयूएम 6,934 करोड़ रुपए रहा है। एजेंट तेजी से न बेचें इस स्कीम को- मिरै का कहना है कि ऐसा इसलिए किया गया है, ताकि एजेंट इन स्कीम को बहुत तेजी से न बेचें। वितरकों का कहना है कि वे अब मिरै की स्कीम को नहीं बेचेंगे। मध्यप्रदेश के एक बड़े वितरक ने कहा कि मिरै के इस फैसले का मतलब है कि आगे चलकर इसमें जोखिम हो सकता है। साथ ही निवेशक का डाटा आ जाने के कारण वे डायरेक्ट सेलिंग को भी बढ़ावा दे सकते हैं। इस स्कीम में ज्यादा निवेश नहीं चाहिए- मिरै का कहना है कि इन स्कीम में अब उसे ज्यादा निवेश नहीं चाहिए। जबकि वितरकों का कहना है कि फंड हाउस ने इसलिए कमीशन में कटौती की है, ताकि उसका फायदा बढ़ जाए। हालांकि फंड हाउस के इस फैसले से निवेशकों की जो सालाना इस पर लागत लगती है, उस पर कोई असर नहीं होगा।

60-70 पैसा मिलेगा कमीशन

मिरै अब इन स्कीम में नए आने वाले निवेश पर 60-70 पैसा कमीशन देगा, जबकि पहले वह 120 से 140 पैसा देता था। इसने वितरकों और बैंक तथा फाइनेंशियल एडवाइजर्स से पूछा है कि वे अपनी लिस्ट से इस स्कीम को हटा दें, जिसमें वे इसे निवेशकों को खरीदने की सलाह दे रहे हैं। मिरै दरअसल चाहती है कि इन स्कीम्स में अब निवेशक कम निवेश करें।