RBI की मौद्रिक नीति समिति की बैठक समाप्त: ग्राहकों को ईएमआई या लोन की ब्याज दरों पर कोई नई राहत नहीं; पढ़ें बैठक की प्रमुख बातें

 04 Jun 2021 11:00 AM

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक आज समाप्त हुई। यह बैठक 2 जून को शुरू हुई थी। बैठक के बाद गवर्नर शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि कोरोना के कारण देश में लॉकडाउन लगाया गया। इसका असर भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी पड़ा है। हर दो महीने में आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक होती है। इस बैठक में अर्थव्यवस्था में सुधार पर चर्चा की जाती है और साथ ही ब्याज दरों का फैसला लिया जाता है। रिजर्व बैंक ने आखिरी बार 22 मई 2020 में नीतिगत दरों संशोधन किया था।


बैठक की कुछ प्रमुख बातें...

  • आरबीआई ने रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया है। यह चार फीसदी पर बरकरार है। एमपीसी ने सर्वसम्मति से यह फैसला लिया है।
  • ग्राहकों को ईएमआई या लोन की ब्याज दरों पर नई राहत नहीं मिली है।
  • मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (MSF) रेट भी 4.25 फीसदी पर है।
  • रिवर्स रेपो रेट को भी 3.35 फीसदी पर स्थिर रखा गया है।
  • बैंक रेट में भी कोई बदलाव नहीं करने का फैसला लिया गया है। यह 4.25 फीसदी पर है।
  • इसके साथ ही केंद्रीय बैंक ने मौद्रिक रुख को 'उदार' बनाए रखा है।
  • भारतीय रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष 2021-22 में देश की जीडीपी में 9.5 फीसदी की तेजी का अनुमान लगाया है। 
  • पिछली बैठक में जीडीपी में 10.5 फीसदी की तेजी का अनुमान लगाया गया था।
  • इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में यह 18.5 फीसदी होगी, दूसरी तिमाही में 7.9 फीसदी, तीसरी तिमाही में 7.2 फीसदी और चौथी तिमाही में 6.6 फीसदी।