आरबीआई ने छह इकाइयों पर लगाया 5.78 करोड़ का जुर्माना, फोनपे और पीएनबी जैसे नाम शामिल

 21 Nov 2020 11:14 AM

दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने पीएनबी, सोडेक्सो और फोनपे समेत छह इकाइयों पर नियामकीय दिशानिर्देशों के उल्लंघन को लेकर 5.78 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। आरबीआई ने यह जुरमाना भुगतान और निपटान प्रणाली कानून, 2007 की धारा 30 के तहत लगाया है। इस के अनुसार दिशानिर्देशों का अनुपालन नहीं करने को लेकर जुर्माना लगाया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोडेक्सो एसवीसी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, मुत्थूट व्हीकल एंड एसेट फाइनेंस लिमिटेड, क्विक सिलवर सोल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड, फोनपे प्राइवेट लिमिटेड, दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड और पंजाब नेशनल बैंक पर आरबीआई ने जुर्माना लगाया है। 

क्या है पूरा मामला? 
दरअसल, इन छह इकाइयों में से पांच पीपीआई जारी करने वाली इकाइयां हैं। पीपीआई यानि की गैर-बैंक प्रीपेड भुगतान उत्पाद। पीपीआई का उपयोग वस्तु और सेवाओं की खरीद के साथ दोस्तों, रिश्तेदारों आदि को पैसा देने-लेने में किया जाता है। इन पांच कंपनियों में पंजाब नेशनल बैंक का नाम शामिल नहीं है।  

किस कम्पनी पर लगा कितना जुर्माना? 

प्राप्त जानकारी के अनुसार, मुत्थूट व्हीकल एंड एसेट फाइनेंस पर सबसे ज़्यादा जुर्माना लगा है।  
सोडेक्सो - दो करोड़ रुपये 
पीएनबी और क्विक सिलवर सोल्यूशंस - एक-एक करोड़ रुपये
फोनपे - 1.39 करोड़ रुपये 
मुत्थूट व्हीकल एंड एसेट फाइनेंस - 34.55 करोड़ रुपये 
दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन - पांच लाख रुपये