चिकन खाने से पहलाज निहलानी को हुई थी खून की उल्टी, निर्देशक ने रेस्टोरेंट के खिलाफ एक्शन लेने का किया फैसला

 07 Jun 2021 11:44 AM

मुंबई। सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और प्रोड्यसर पहलाज निहलानी को पिछले दिनों अस्पताल में भर्ती किया गया था। पहलाज निहलानी को खून की उल्टियां होने के बाद 28 दिन तक नानावती अस्पताल में रखा गया था। पिछले महीने की 7 तारीख को अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें खून की उल्टी होने लगी थी। अब पहलाज निहलानी ने खुलासा किया है उन्हें रेस्टोरेंट का खाना खाने के बाद ऐसा हुआ। इसलिए वह मुंबई के एक रेस्टोरेंट पर कानूनी कार्रवाई करेंगे।

 

ऑनलाइन चिकन किया था ऑर्डर

पहलाज निहलानी ने अंग्रेजी वेबसाइट स्पॉटब्वॉय से बातचीत की। इस बातचीत में उन्होंने कहा, 'एक महीने पहले, मैं घर पर अकेला था। मेरी बीवी भी बाहर थी। सात मई की शाम को अचानक मेरे घर पर मेरी फिल्म यूनिट के कुछ लोग घर आए थे। पहलाज के मुताबिक, बेहद देर हो गई थी। ऐसे में मैंने बाहर से खाना ऑर्डर किया था। मेरा खाना घर पर बनता है पर उस दिन वह सबके लिए काफी नहीं था। मैं नॉन वेज में केवल चिकन ही खाता हूं। ऐसे में मैंने भी उनके साथ खाना शुरू कर दिया। मैंने जैसे ही चिकन खाया मैं जानता था कि कुछ गड़बड़ है। लेकिन, जब मैंने दूसरे को खाते हुए देखा तो लगा कि मेरी गलत फहमी है। ऐसे में मैंने खा लिया। इसके बाद वह चले गए।

होने लगी खून की उल्टियां
उन्होंने बताया कि कुछ वक्त बाद मैं असहज महसूस करने लगा था। मैंने उल्टी करनी शुरू कर दी थी। इसके बाद मुझे थोड़ी राहत महसूस हुई। ऐसे में मैंने सोने की कोशिश की। पहलाज बताते हैं कि रात के लगभग तीन बजे मैंने उल्टी की और उसमें खून निकल रहा था। इसके बाद मुझे बहुत ज्यादा घबराहट होने लगी। मैंने अपने बेटे को बुलाया। वह मेरी ही बिल्डिंग में रहता है।

लेंगे लीगल एक्शन
सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष के मुताबिक मेरे बेटे ने तुरंत डॉक्टर को फोन लगाया और अस्पताल ले गया। इसके अलावा 28 दिन मैं वहां पर रहा। कोरोना के कारण मेरे घरवालों को मुझसे मिलने की इजाजत नहीं दी। मैंने अपनी वाइफ से वीडियो कॉल में बात की। पहलाज कहते हैं कि वह रेस्त्रां के खिलाफ लीगल एक्शन लेंगे। वह मेरी जिंदगी का आखिरी खाना हो सकता था। रात को जिन्होंने भी खाया वह बीमार पड़ गया था। लेकिन, मेरी हालत सबसे खराब हुई। मैंने सबसे रिक्वेस्ट करता हूं कि इन दिनों घर का बना खाना ही खाएं।