AIIMS की स्टडी : वैक्सीन लगने के बाद भी कोरोना के डेल्टा वेरिएंट से संक्रमित तो हुए लोग पर मौत नहीं हुई

 10 Jun 2021 05:50 PM

नई दिल्ली। कोरोना का डेल्टा वेरिएंट जिसने दूसरी लहर में देश में बहुत बड़ी संख्या में लोगों को संक्रमित किया, उसी के कारण वैक्सीन लगवा चुके लोग दोबारा संक्रमित हो रहे हैं। यह खुलासा AIIMS  की स्टडी में हुआ है।  

कोरोना वैक्सीन लगवा चुके लोगों के संक्रमित होने के बाद दिल्ली AIIMS  ने एक स्टडी की। स्टडी में सामने आया कि वैक्सीन लगवा चुके लोगों में संक्रमण के ज्यादातर मामले कोरोनावायरस का डेल्टा वेरिएंट (B.1.617.2) के कारण हैं। यह स्ट्रेन वैक्सीन के दोनों डोज लगवा चुके लोगों को संक्रमित कर रहा है। स्टडी में यह भी निकल के आया कि ऐसे ज्यादातर लोगों में सिर्फ तेज बुखार जैसे लक्षण दिखे हैं, किसी को भी गंभीर बीमारी नहीं हुई। स्टडी के लिए AIIMS के इमरजेंसी डिपार्टमेंट में आने वाले मरीजों की रूटीन टेस्टिंग के लिए जमा किए गए नमूनों का ही अध्ययन किया गया था।


क्या निकला स्टडी में :

- AIIMS ने स्टडी में 63 लोगों को शामिल किया, जिन्हें वैक्सीन लगने के बाद कोरोना संक्रमण हुआ था।

- वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले 63% लोग डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित हुए।

- एक डोज लेने वाले 77% लोग डेल्टा वैरिएंट के शिकार हुए।

- रिसर्च के दौरान सभी मरीजों में वायरल लोड काफी ज्यादा था। इसमें सिंगल और दोनों डोज लगवा सके लोग शामिल थे।

- वैक्सीन के बाद कोरोना होने वाले 36 लोगों को वैक्सीन के दोनों डोज मिल चुके थे। 27 लोगों को सिर्फ एक ही डोज मिला था।

-स्टडी में शामिल 10 लोगों को कोवीशील्ड और 53 को कोवैक्सिन लगाई गई थी।

- सभी 63 लोग वैक्सीन लगने के बाद संक्रमित तो हुए, लेकिन इनमें एक की भी मौत नहीं हुई। इन्हें 5-7 दिनों तक बहुत ज्यादा बुखार रहा था।