बर्ड फ्लू: इंसानों में फैलता है या नहीं ? नॉन वेज खाएं या नहीं? यहां जानें जवाब

 06 Jan 2021 02:46 PM

कोरोना वायरस महामारी के बीच मध्यप्रदेश, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, केरल और गुजरात में बर्ड फ्लू अब बड़ा खतरा बनता जा रहा है। इन राज्यों में अब तक सैकड़ों पक्षियों की मौत हो चुकी है। इसके बाद से यहां की राज्य सरकारों ने अलर्ट जारी कर दिया है। इस दौरान कुछ सवाल हैं जो सबकी टेंशन बड़ा रहे हैं, जैसे 

क्या बर्ड फ्लू इंसानों में फैलता है? अगर हाँ तो कैसे? फैलता है तो क्या हम चिकन और अंडा खा सकते है या नहीं?  और इससे बचने का क्या उपाए है ? 

सबसे पहले जानते हैं क्या यह वायरस इंसानों में फैलता है या नहीं ?
जवाब है हां। दरअसल, बर्ड फ्लू के कई वायरस हैं, लेकिन H5N1 पहला वायरस है जिसने इंसान को संक्रमित किया। 1997 में हॉन्ग-कॉन्ग में इसका पहला मामला सामने आया था। इसके बाद 2003 से यह वायरस चाइना समेत एशिया, यूरोप और अफ्रीका में फैलना शुरू हुआ। चाइना में 2013 में इसका मामला मिल चुका है।  

तो यह वायरस इंसानों में कैसे आता है? 
WHO के मुताबिक, इसका वायरस आमतौर पर पानी में रहने वाली बत्तखों में पाया जाता है, लेकिन मुर्गियों के फार्म से होते हुए यह इंसानों में भी आ सकता है।  
वो कैसे ? आमतौर पर इंसानों में यह बीमारी मुर्गियों या फिर संक्रमित पक्षी के बेहद पास रहने से फैलती है। संक्रमित मुर्गियों या इसके मल-मूत्र या लार के सम्पर्क में आने से यह वायरस इंसानों में फैलता है। अगर मुर्गी संक्रमित है या किसी प्रकार से आपका इनसे संपर्क होता है तो ये संक्रमण आपको भी हो सकता है। इंसानों में बर्ड फ्लू का वायरस आंख, नाक और मुंह के ज़रिए प्रवेश करता है।

तो क्या चिकेन और अंडे खाना सेफ होगा?
बिल्कुल खा सकते हैं, लेकिन खाना अच्छे से पकाएं। अभी तक ऐसा कोई भी मामला रिपोर्ट नहीं हुआ है कि मांस खाने से फ्लू हुआ हो। ऐसा भी कोई केस सामने नहीं आया है जिसमें पानी के टैंक में इंफेक्टेड पक्षी ने बीट की हो और उससे कोई संक्रमित हुआ हो। लेकिन अधपका चिकन या आधे उबले अंडे से आपकी सेहत को खतरा हो सकता है। 'बर्ड फ्लू' के बढ़ते मामलों को देखते हुए विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि अधपके चिकन या अंडे खाने से बचें। 

इससे कैसे बचें ? 

1.  संक्रमित पक्षियों से दूर रहें खासकर मरे पक्षियों से बिल्कुल दूर रहें।
2.  आप जहां रहते हैं अगर वहां बर्ड फ्लू का संक्रमण फैला है तो नॉनवेज न खाएं।
3.  नॉनवेज खरीदते समय साफ-सफाई का ख़ास ध्यान रखें।
4.  जिस इलाके में संक्रमण है कोशिश करें कि वहां न जाएं या मास्क पहनकर ही जाएं।