बच्चों के नर्वस सिस्टम पर असर डालता है कोरोना, एम्स में मिला पहला मामला

 20 Oct 2020 11:47 AM

नई दिल्ली। दिल्ली स्थित ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) में कोरोना वायरस के कारण 11 साल की एक बच्ची के मस्तिष्क में तंत्रिका के खराब होने का पहला मामला सामने आया है। इससे उसकी दृष्टि क्षमता पर भी असर पड़ा है। बच्चों के न्यूरोलॉजी डिवीजन के डॉक्टर उसके स्वास्थ्य पर एक रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं। रिपोर्ट के मसौदे में कहा गया है, हमें एक 11 वर्षीय लड़की में कोरोना संक्रमण के कारण एक्यूट डेमिनालाइजिंग सिंड्रोम (एडीएस) मिला है। यह पहला मामला है, जिसे बच्चों में पाया गया है। 
तंत्रिकाओं को एक सुरक्षात्मक परत के साथ कवर किया जाता है, जिसे मायलिन कहा जाता है, जो मस्तिष्क से संदेशों को शरीर के माध्यम से जल्दी और आसानी से स्थानांतरित करने में मदद करता है। एडीएस में माइलिन, मस्तिष्क संकेतों को नुकसान पहुंचाती हैं और तंत्रिका संबंधी कार्यों जैसे दृष्टि, मांसपेशियों की गति, इंद्रियों, मूत्राशय आदि को प्रभावित करती हैं।

एम्स के बाल न्यूरोलॉजी विभाग के डॉक्टरों ने कहा कि पीड़ित लड़की उनके पास दृष्टि की कमी के साथ आई थी। एमआरआई कर एडीएस देखा गया तो पता चला कि कोरोना वायरस मस्तिष्क और फेफड़ों को प्रमुख रूप से प्रभावित करता है।