IMA ने कहा- पर्यटन और धार्मिक यात्राओं को टालें, तीसरी लहर है करीब

 12 Jul 2021 08:26 PM

नई दिल्ली। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने चेतावनी दी है कि तीसरी लहर नजदीक है और ऐसी स्थिति में टूरिज्म और धार्मिक यात्राओं के लिए कुछ दिन इंतजार किया जा सकता है। IMA की चेतावनी ऐसे समय में आई है जब उत्तर भारत में टूरिस्ट स्पॉट पर लोगों की भीड़ लग रही है। IMA के प्रेसिडेंट डॉ. जॉनरोज ऑस्टिन जयलाल ने कहा कि इस नाजुक मुकाम पर हमें अगले दो-तीन महीने तक कोई खतरा नहीं उठाना चाहिए।

 

IMA ने कहा - ये देखकर बहुत दुख हो रहा है कि देश के कई हिस्सों में जनता और सरकार, दोनों ही लापरवाह हैं। सभी बिना कोविड प्रोटोकॉल का पालन किए भीड़ इकट्ठा करने में जुटे हैं। अभी देश दूसरी लहर से निकला ही है। इसमें स्वास्थ्य महकमे की कोशिशें हैं। बिना वैक्सिनेशन टूरिज्म, धार्मिक यात्राओं खोलना खतरनाक होगा। ये तीसरी लहर के सुपरस्प्रेडर बन सकते हैं।

 

वैज्ञानिक का दावा 4 जुलाई को दस्तक दे चुकी है तीसरी लहर दस्तक

हैदराबाद। भौतिक विज्ञानी डॉ. विपिन श्रीवास्तव ने दावा किया है कि कोरोना की तीसरी लहर 4 जुलाई से शुरू हो चुकी है। उनका यह दावा नए पॉजिटिव मरीजों की संख्या, मरीजों के ठीक होने के रेट और डेथ रेट के आधार पर है।

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के प्रोवाइस-चांसलर रहे डॉ. श्रीवास्तव ने कहा कि क 4 जुलाई से कोरोना संक्रमण के नए मामले और मौतें इशारा करते हैं कि देश में तीसरी लहर आ चुकी है। यह ट्रेंड दूसरी लहर की शुरूआत जैसा ही है जो फरवरी के पहले सप्ताह में शुरू हुई थी। उन्होंने वेव पैटर्न स्टडी करने के लिए 461 दिनों के आंकड़ों का प्रयोग किया। उन्होंने डेली डेथ लोड (DDL) को हर दिन कैल्कुलेट किया। इसके लिए 24 घंटों में कोरोना से मौतों और उसी अवधि में नए एक्टिव केस का अनुपात लिया। नए केस के मुकाबले ठीक होने वालों की संख्या ज्यादा होने पर यह अनुपात निगेटिव रहता है जो अनुकूल स्थित है, पर 4 जुलाई से आंकड़े इसके विपरीत दिशा की ओर बढ़ते दिख रहे हैं।