केंद्र सरकार ने हैदराबाद की बायोलॉजिकल-ई से 30 करोड़ वैक्सीन डोज की डील की

 03 Jun 2021 04:10 PM

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने हैदराबाद की वैक्सीन निर्माता कंपनी बायोलॉजिकल- से कोरोना वैक्सीन की 30 करोड़ डोज की डील की है। सरकार ने इसके लिए कंपनी को 1500 करोड़ रुपए का एडवांस पेमेंट भी कर दिया है। वैक्सीन अगस्त से दिसंबर 2021 के बीच बनाई जाएंगी।

बायोलॉजिकल-ई की वैक्सीन एक नई वैक्सीन होगी। इसके पहले वैक्सीन के पहले और दूसरे फेज के ट्रायल हो चुके हैं। कंपनी अब तीसरे फेज के ट्रायल कर रही है। यह वैक्सीन एक आरबीडी प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन है। भारत बायोटेक की कोवैक्सिन के बाद यह दूसरी मेड इन इंडिया वैक्सीन होगी।

देश में ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन उत्पादन के लिए सरकार ने नई वैक्सीन कंपनी को ऑडर दिया है। सरकार ने कंपनी को क्लिनिकल ट्रायल के लिए 100 करोड़ रुपए के अलावा रिसर्च के लिए अन्य मदद मुहैया कराई है। इस वैक्सीन के तैयार होने के बाद देश में दो स्वदेशी वैक्सीन मिले सकेंगी।

भारत में इस समय तीन वैक्सीन लोगों के लिए उपलब्ध हैं। इसमें भारत बायोटेक की कोवैक्सीन, सीरम इंस्टीट्यट की कोवीशील्ड और रूस की sputnik v उपलब्ध हैं। इसके साथ ही सरकार ने फायजर और मॉडर्ना की वैक्सीन को देश में उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार उनकी शर्तें मानने को तैयार हो गई थी। फायजर और मॉडर्ना की वैक्सीन के लिए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने कहा था कि अगर इन कंपनियों की वैक्सीन को बड़े देशों और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली हुई है तो भारत में इन्हें लॉन्चिंग के बाद ब्रिजिंग ट्रायल की जरूरत नहीं है।