कीमती सामान रखने के लिए उपयोग किया जाता था हिरण की खाल से ढंका बक्सा

 04 May 2021 01:53 AM

बक्सा स्थानीय मजबूत लकड़ी से बनी एक आयताकार पेटी है और इसकी बाहरी सतह हिरण की खाल से ढंकी गई है। इसे भारत के एक उत्तरी राज्य हिमाचल प्रदेश से संकलित किया गया था। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय द्वारा सप्ताह के प्रादर्श के रूप में इसे प्रस्तुत किया गया है, जिसे संग्रहालय के इंस्टाग्राम व फेसबुक पेज पर देखा जा सकता है। इसके कोनों पर सुंदर रूपांकन युक्त धातु की पट्टी की सज्जा इसे और भी आकर्षक बनाती है। इसका उपयोग कपड़े और अन्य कीमती सामानों को रखने के लिए किया जाता था। लोक समुदायों में घरेलू वस्तुओं की सज्जा विशुद्ध रूप से व्यक्तिगत अभिरुचि के अनुरूप होती है।

शिकार पर प्रतिबंध से ऐसी वस्तुएं दुर्लभ

पिछले दशकों में जंगली जानवरों सहित अन्य जानवरों की खालों का इस्तेमाल कपड़ों, जूतों, फर्नीचर, घर की सजावट आदि जैसी कई जरूरतों को पूरा करने के लिए किया जाता था। वर्तमान में जंगली जानवरों के अवैध शिकार पर प्रतिबंध होने के कारण उनकी खालों का उपयोग काफी हद तक सीमित हो गया है। ऐसी वस्तुएं अब दुर्लभ और अद्वितीय हैं और अधिकांशत: संग्रहालय के संकलन में देखी जा सकती हैं।