5 से 55 साल के नवोदित कलाकारों ने दी कथक और भरतनाट्यम की प्रस्तुति

 05 Mar 2021 01:06 AM

कथक नृत्यांगना वी. अनुराधा ने मशहूर कवियों द्वारा लिखित कई बंदिशों को कथक में सम्मिश्रण कर नवीन रोचकता के साथ गुरूवार शाम पंडित कार्तिक राम स्मृति समारोह में प्रस्तुति दी। अपने सुंदर भावों और सजीले तानों बानो से शुद्ध कथक को नई ऊंचाई प्रदान करती इन प्रस्तुतियों का आयोजन रायगढ़ घराने के कथक गुरु पंडित कार्तिक राम की स्मृति में वृंदा कथक केंद्र में किया गया। भरतनाट्यम नर्तक सौरभ त्रिपाठी सहित नवोदित कलाकारों ने प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में शहर के 5 से 55 साल के 50 नवोदित कलाकारों के विभिन्न समुहों ने शुद्ध कथक के अलावा शिव, गणेश, राम भजन की कथक प्रस्तुति दी।

15 सेकंड में 45 चक्करों का चक्करदार

कार्यक्रम का शुभारंभ नृत्यांगना वी. अनुराधा ने शिव वंदना से की, जो पांच मात्रा सूलफक्ता ताल में हुई। इस प्रस्तुति में अनुराधा ने 15 सेकंड में 45 चक्करों का चक्करदार प्रस्तुत किए जो रायगढ़ घराने के दमदार बोल परन के साथ तीन ताल में और पांच लय में घुंघरू वादन हुआ। कथक की इस बेहतरीन प्रस्तुति के बाद अनुराधा ने राग हंसध्वनि में ताराना पेश किया और वायलिन की जुगलबंदी के साथ श्री कृष्ण की कालिया मर्दन कथानक की मनमोहक प्रस्तुति देकर समारोह संध्या को कृष्णमय बनाया। इसके बाद राधा- कृष्ण की होरी पर ठुमरी समापन किया।