Breaking News

चिकलोद, भोज वेटलैंड, कलियासोत डैम और वन विहार बने नेचर फोटोग्राफी के ठिकाने

 15 Jun 2021 01:20 AM

प्रकृति का नैसर्गिक सौंदर्य किसे नहीं लुभाता। किसी ने शब्दों में इसे बांधने का प्रयास किया तो किसी ने रंगों और किसी ने तस्वीरों के जरिए। शहर में फोटोग्राफी कल्चर काफी बढ़ रहा है। अपने हर रूप में पूरी तरह खिलने वाले सौंदर्य के इस आयाम को अब लोग प्रोफेशनल कैमरा से क्लिक करने लगे हैं। शौकीन इतने कि सुबहसु बह से ही नेचर फोटोग्राफी के लिए शहर के वेटलैंड से लेकर नदी-ताल, वन-विहार और जंगलों की तरफ निकल जाते हैं। 15 जून को नेचर फोटोग्राफी डे के मौके पर नेचर लवर्स फोटोग्राफर्स ने अपने अनुभव आईएम भोपाल के साथ शेयर किए। अधिकांश फोटोग्राफर्स फोटोग्राफी करने वन विहार, कोलार डैम, केरवा डैम, कलियासोत, भोज वेटलैंड और चिकलोद जा रहे हैं।

फोटोग्राफी के लिए नेचर से कनेक्शन जरूरी

जब भी आप किसी भी तरह से फोटोग्राफी शुरू करना चाहते हैं उसके लिए पैशन के साथ नेचर से कनेक्टिविटी बेहद जरूरी है। साथ ही कोरोना काल में हमने भी देखा कि कैसे पहाड़ और नदियां साफ़ हुई हैं और उन्हें हम सब अपने कैमरे में कैद कर लेना चाहते हैं। मैंने भी भोपाल और आसपास की लोकेशन को एक्सप्लोर किया है, जहां मैं अपने आप को नेचर के करीब पाता हूं। फोटोग्राफी में भी नई टेक्नोलॉजी आ गई है, जिन्हें इस्तेमाल कर आप नेचर फोटोग्राफी में बहुत कुछ सीख सकते हैं। - ट्रॉय खान, फोटोग्राफर

रोज सुबह फोटोग्राफी करने जाता हूं

फोटोग्राफी करते हुए सात साल हो गए हैं। मैं रोज सुबह 5:30 बजे उठकर फोटोग्राफी करने जाता हूं। मैंने हाल ही में सनराइज का फोटो क्लिक किया था, जिसे काफी पसंद किया गया। इसके अलावा मैं बिशनखेड़ी भोज वेटलैंड के बैकसाइड में भी फोटोग्राफी करने जाता हूं। आमतौर पर यह जगह ज्यादा एक्सप्लोर नहीं की गई हैं। यहां नेचर के साथ कुछ अच्छी बर्ड्स भी देखने को मिलती हैं, जिसमें दूधराज देखा जा सकता, जो कि मप्र का राज्य पक्षी भी है। - क्षितिज पाटले, फोटोग्राफर

180 तरह की बर्ड्स कैप्चर की हैं...

पिछले तीन साल से मैं प्रोफेशनल कैमरा व लेंस से फोटो ले रहा हूं। हते में एक-दो बार वन विहार जरूर जाता हूं। हर विजिट पर मुझे अलग-अलग बार लगभग 180 तरह की बर्ड्स मिली हैं। भोपाल में लगभग 250 तरह की बर्ड्स हैं तो उनका कलेक्शन पूरा करना है। -योगेश मोरे, फोटोग्राफर