सरकारें समाज का इंजन, जिसे नेता चलाते ह सरकारें समाज का इंजन होती हैं।

 04 Apr 2021 12:54 AM

इस इंजन को नेता चलाते हैं। यह पुस्तक इन्हीं नेताओं का लेखा-जोखा है। जितना मैंने जाना है, उतना ही इस पुस्तक में लिखा पाया हूं । इसके अलावा भी मध्यप्रदेश के राजनीतिक इतिहास में बहुत कुछ हुआ है। जिसे न मैंने जाना, न देख पाया। लेकिन मेरी कोशिश रही है कि जितना भी मुझे पता है, उसे प्रामाणिक रूप से लिख सकूं। यह कहना है वरिष्ठ पत्रकार और माखनलाल यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति दीपक तिवारी का। मौका था इंद्रा पब्लिशिंग हाउस और लैंडमार्क द बुक स्टोर की तरफ से आयोजित 'शनिवार की शाम लेखक के नाम' कार्यक्रम का । इस कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार दीपक तिवारी द्वारा लिखित ‘राजनीतिनामा मध्यप्रदेश कांग्रेस युग (1956-2003)’ और ‘राजनीतिनामा मध्यप्रदेश भाजपा युग (2003-2018)’ किताबों के बारे चर्चा की गई। इस पुस्तक पर संस्था की चीफ एडिटर दीपाली गुप्ता ने चर्चा की। किताब पर चर्चा के दौरान दीपक तिवारी ने बताया कि साल 1993 से 2018 के बीच मध्यप्रदेश ने चार मुख्यमंत्री देखे, जिनमें से दिग्विजय सिंह और शिवराज सिंह के मिलाकर 23 वर्ष होते हैं। उमा भारती कुल आठ महीने मुख्यमंत्री रहीं और बाबूलाल गौर पंद्रह महीने। इस तरह आज जो प्रदेश का चित्र है उसके लिए पूरी तरह से दो नेता जिम्मेदार हैं। दिग्विजय सिंह और शिवराज सिंह चौहान। यह पुस्तकें, कांग्रेस शासन (1956 से 2003) और भाजपा शासन (2003 से 2018) के पन्द्रह वर्षों का डाक्यूमेंटेशन हैं। यह किताब पूरी तरह से सिलसिलेवार तो नहीं है, लेकिन प्रमुख और बड़ी घटनाओं का चित्रण इसमें मैंने किया है। इससे कि पाठकों के लिए इस काल की राजनीति को समझने में आसानी हो।