हिल स्टेशन पर बढ़ रहा रिवेंज टूरिज्म, सुरक्षित रहने चुनें आसपास की लोकेशंस

 27 Jul 2021 02:15 AM

हाल ही में भारत में कोविड - 19 महामारी की दूसरी लहर के कमजोर होते ही कई राज्यों में पाबंदियों में छूट दी गई, जिससे भोपाल सहित कई शहरों के लोग समुद्र तट, पहाड़ों या रिसॉर्ट की ओर निकल गए। इसके लिए रिवेंज ट्रैवल या टूरिज्म शब्द का इस्तेमाल किया जा रहा है। यह टर्म इस समय काफी इस्तेमाल की जा रही है क्योंकि इसे कोविड अप्रोप्रिएट बिहेवियर के प्रतिकूल माना जा रहा है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, भले ही हम महीनों तक लॉकडाउन में रहने से थक चुके हों, लेकिन कोरोना वायरस के साथ ऐसा नहीं है। बड़ी संख्या में लोग हिल स्टेशन पर पहुंच रहे हैं, जहां होटल फुल हो चुके हैं लेकिन लॉकडाउन के नीरस जीवन से मुक्त होने की इच्छा से उपजा यह ट्रेंड ठीक नहीं। इसलिए कहीं भी जाने से पहले अपने परिवार की सुरक्षा का ख्याल रखें और फिर कोई ट्रिप प्लान करें।

भावनाओं में बहकर न बनाएं घूमने का प्लान

भावनाओं में बहकर घूमने का निर्णय न लें क्योंकि तीसरी लहर कब आ जाए कह नहीं सकते। कर्नाटक में मामले बढ़ने शुरू हुए हैं। काफी सोच-विचार करके ऐसी लोकेशन पर जाएं जो कि डिस्टेंस में फैली हो और जहां से आप अपनी ही गाड़ी से जाकर वापस भी आ सकें। रिवेंज ट्रैवल या टूरिज्म को लेकर चिंताएं बढ़ीं हैं क्योंकि हिल स्टेशन की भीड़ देखकर हेल्थ फील्ड से जुड़े लोग चौंक गए हैं इसलिए आसपास की जगहों पर ही घूमना बेहतर होगा।- डॉ. आरएन साहू, मनोचिकित्सक

क्या है रिवेंज टूरिज्म111

रिवेंज टूरिज्म, लॉकडाउन के नीरस जीवन से मुक्त होने की इच्छा से उपजा है। 

कई लोग एकरसता से थक गए हैं और कार्यशैली में बदलाव की तलाश कर रहे हैं।

खतरे के बावजूद यात्रा करने की यह इच्छा रिवेंज ट्रैवल कहलाती है।

ट्रैवल वेबसाइट से पता करें आसपास की जगह

बतौर ट्रैवलर मैं कह सकता हूं कि किसी तरह का जोखिम न उठाएं क्योंकि घूमने के लिए पूरी जिंदगी पड़ी है। यदि घूमना ही चाहते हैं तो 300 किमी के दायरे में जो लोकेशंस आती हैं, वहां जाएं ताकि हिल स्टेशन वाली भीड़भाड़ का सामना न करना पड़े। बहुत सारी वेबसाइट्स हैं, जिन पर जाकर एक्सप्लोर कर सकते हैं कि प्रदेश में ही कहां-कहां घूमने जा सकते हैं। ऐसी जगहों की जानकारी भी बड़ी आसानी से मिल जाती हैं, जहां क्राउड का झंझट नहीं है। तो अक्लमंदी से काम लें और रिसर्च करने के बाद ही प्लानिंग करें कि कहां घूमने जाएं। इस समय बरसाती नाले उफान पर हैं तो ऐसी किसी जगह पर जाने से बचें जहां, फिसलन हो या अचानक से डैम से पानी छोड़ देने पर डूबने का खतरा। सुनील अवसरकर, ट्रैवलर

भीड़भाड़ देखी तो मनाली से दूर स्टे किया

जून महीने में जैसे ही लॉकडाउन खुला पहली ट्रिप ही मैंने शिमला-मनाली की प्लान की थी। मैं बाइकर भी हूं तो मुझे कहीं तो घूमने जाना था इसलिए मैंने यह जगह चुनी। जैसा की सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था कि बहुत भीड़ है तो हमने शहर से बाहर के होटल में स्टे किया। कोरोना को ध्यान में रखते हुए मैंने जितना प्रिकॉशन ले सकते थे लिए। लेकिन यह सभी लोगों के लिए पॉसिबल नहीं होता कि मेन सिटी से दूर ठहरें, इसलिए कोशिश करें कि अभी इन जगहों पर न जाएं क्योंकि मैं खुद भी क्राउड ज्यादा देखकर घबरा गया था, हालांकि मुझे आइसोलेशन वाली जगह पर ही स्टे करना था। -उत्कर्ष मेश्राम, टूरिस्ट