त्रिवेणी तभी पूरी होती है, जब साथ में नीम लगा हो: प्रवीण कुमार मिश्र

 09 Jun 2021 01:50 AM

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय के अरिष्ट वन परिसर में संग्रहालय के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा वृक्षारोपण किया गया। इस अवसर पर संग्रहालय के निदेशक प्रवीण कुमार मिश्र ने शास्त्रों में भी नीम की मान्यता है। त्रिवेणी भी बड़ और पीपल के साथ तभी पूरी होती है जब उसमें नीम साथ लगाया जाए। गांव व शहरों में पुराने समय से ही त्रिवेणी रोपी जाती रही है और इसका कारण नीम का गुणकारी होना है। नीम को लेकर तमाम देशों में शोध होते रहे हैं। इसे मृत्यु लोक का कुल्पवृक्ष कहा जाता है। एलोपैथिक दवाइयां नीम की पत्ती व उसकी छाल से बनती है, इसलिए अपने आसपास यह पेड़ लगाएं।