Breaking News

दुष्यंत संग्रहालय को मिली मन क्यों बहका...की हैंड रिटेन कॉपी

 20 Jul 2021 01:55 AM

'मन क्यों बहका रे बहका आधी रात को, बेला महका रे महका रे आधी रात को...', 'मन आनंद आनंद छायों...', 'सांझ ढले..., गगन तले...,जैसे गीतों के रचनाकार वसंत देव की रचनाओं की हस्तलिपि दुष्यंत कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय को प्राप्त हुई है। उत्सव फिल्म का गीत ‘मन क्यों बहका रे बहका...’7 जून 1982 की तारीख के साथ कागज पर लिखा है, जिसमें गीत की गायिका लता मंगेशकर व आशा भोसले और संगीत अर्जित बर्मन लिखा है।

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता गीतकार...

संग्रहालय में सिने गीतों के साथ ही नाटक, अन्य रचनाएं और कुछ धारावाहिकों के आलेख भी शामिल हैं। संग्रहालय के निदेशक राजुरकर राज ने बताया कि उनके चर्चित गीतों को लता मंगेशकर, आशा भोसले, सुरेश वाडकर जैसे प्रसिद्ध गायकों ने अपनी आवाज दी है। 28 सितंबर 1929 को जन्मे वसंत देव को उनके गीतों के लिए दो बार फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुका है। उन्होंने फिल्म उत्सव, सारांश, आक्रोश, आघात, भूमिका, सुरसं गम आदि के लिए गीत लिखे हैं।