हिंदू संगठनों की रैली पर गोलियां चला कर दंगे भड़काने की साजिश करने वाले पुलिस की गिरफ्त में

 29 Aug 2021 12:55 PM

इंदौर से सांप्रदायिक दंगे फैलाने की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है। इस साजिश के चार मुख्य आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। चारों पिछले मंगलवार को हिंदू सगठनों की रैली में गोली चला कर दंगा फैलाने की साजिश कर रहे थे। पुलिस को उनके वॉट्सएप मैसेज से इस प्लानिंग की जानकारी मिली है। पुलिस ने उनका मोबाइल डाटा खंगाला तो खतरनाक  साजिश की जानकारी हाथ लगी।

पुलिस का कहना है कि आरोपी इंदौर में सीरियल हमले और दंगे कराना चाहते थे। ये शहर में इतनी घटनाएं करते कि स्थिति नियंत्रण से बाहर हो जाती पुलिस एक जगह स्थिति नियंत्रित करती तो दूसरी जगह हमला शुरू कर देते।

 

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मुख्य आरोपी अल्तमश खान छेड़छाड़ के आरोपी अस्लीम चूड़ीवाला से हुई मारपीट के बाद सक्रिय हुआ था। उसने वाट्सएप पर सिक्युरिटी नाम से एक ग्रुप बनाया। अल्तमश ने मोहम्मद इमरान अंसारी, जावेद खान और सैयद इरफान अली के साथ मिलकर हिंदू जागरण मंच की रैली में गोली चलाने की प्लानिंग की। चारों ने तय किया कि रैली में एक व्यक्ति प्रवेश करेगा और गोलियां चलाकर भीड़ तितर-बितर कर देगा। इस घटना से शहर में दंगा भड़क उठेगा और वे मारकाट मचा देंगे।

 

कैसे पकड़े गए

हिंदू जागरण मंच ने जब डीआईजी कार्यालय को घेरने की चेतावनी दी तो अल्तमश ने फर्जी मैसेज भेजना शुरू किया कि हिंदू संगठनों के विरोध में भीम आर्मी भी रीगल तिराहे पर पहुंच रही है। इस मैजेस को ट्रेस करते हुए एएसपी (पूर्वी) राजेश रघुवंशी अल्तमश तक पहुंच गए। उन्होंने पाकीजा कॉलोनी के पास से उसे हिरासत में लिया।

उसके फोन की डाटा रिकवरी करने पर पता चला कि वह जावेद खान, सैयद इरफान अली और इमरान अंसारी से संपर्क में था और दंगे कराने की प्लानिंग कर रहा था। पुलिस ने बाकी तीनों को भी पकड़ा तो अल्तमश की तरह उनके मोबइल से भी चैट डिलीट मिली।

कट्‌टर विचारधारा का है अल्तमश

अल्तमश ने 'भगवा लव ट्रैप' नाम से वॉट्सएप ग्रुप बनाया था। इस ग्रुप से वह मुस्लिम लड़कियों को बुर्के में रहने, मोबाइल न चलाने जैसी हिदायतें देता था। उसने यहां तक तय किया था कि लड़कियां किससे बात करेंगी।

 

आरोपियों के पकड़े जाने के बाद पुलिस उनके विदेशी संपर्कों, कॉल डीटेल व अन्य लोगों से संपर्कों की जांच कर रही है। आरोपियों की संपत्ति की जांच चल रही है। अवैध निर्माण भी तोड़े जाएंगे। चारों को 30 अगस्त तक रिमांड पर लिया है। चारों पर रासुका लगाया जा सकता है।