Breaking News

14 महीने में 1.19 लाख भारतीय बच्चों ने अभिभावकों को खोया

 22 Jul 2021 12:04 AM

वॉशिंगटन। भारत के 1.19 लाख बच्चों सहित दुनिया भर में 15 लाख से ज्यादा बच्चों ने कोविड के कारण कम से कम एक माता-पिता, कस्टोडियल दादा-दादी या दादा-दादी को खो दिया है। द लांसेट द्वारा जारी किए गए एक अध्ययन के अनुसार उनमें से 10 लाख से ज्यादा बच्चों की महामारी के पहले 14 महीनों के दौरान एक या दोनों माता-पिता की मौत हो गई और अन्य 5 लाख बच्चों ने अपने ही घर में रहने वाले दादा-दादी की मौत देखी है। भारत में शोधकर्ताओं का अनुमान है कि मार्च 2021 (5,091) की तुलना में अप्रैल 2021 में नव अनाथ बच्चों (43,139) की संख्या में 8.5 गुना बढ़ोतरी हुई है। रिपोर्ट में इन बच्चों के भविष्य पर चिंता जताई है।

21 देशों के राष्ट्रीय प्रजनन आंकड़ों के आधार पर अनुमान

यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन कोविड रिस्पांस टीम से मुख्य लेखक डॉ. सुसन हिलिस ने कहा, दुनिया भर में हर दो कोविड मौतों के लिए, माता-पिता या देखभाल करने वाले की मौत का सामना करने के लिए एक बच्चा पीछे छूट जाता है। 30 अप्रैल, 2021 तक, ये 1.5 मिलियन बच्चे दुनिया भर में 30 लाख कोविड -19 मौतों का दुखद अनदेखी परिणाम बन गए थे और यह संख्या केवल महामारी की प्रगति के रूप में बढ़ेगी। शोधकर्ताओं ने मार्च 2020 से अप्रैल 2021 तक कोविड -19 मृत्यु दर के आंकड़ों और 21 देशों के राष्ट्रीय प्रजनन आंकड़ों के आधार पर अनुमान लगाया है।

भारत में यह रही स्थिति

नेशनल इंस्टीट्यूट आन ड्रग एब्यूज (एनआईडीए) और नेशनल इंस्टीट्यूट्स आफ हेल्थ (एनआईएच) के अनुसार भारत में 25,500 बच्चों ने कोविड-19 के कारण अपनी मां को खो दिया जबकि 90,751 बच्चों ने अपने पिता को और 12 बच्चों ने माता-पिता दोनों को खो दिया।

पांच गुना अधिक बच्चों ने अपने पिता को खो दिया

शोधकर्ताओं के मुताबिक लगभग हर देश में, महिलाओं की तुलना में पुरुषों की ज्यादा मौत हुई थी। शोध के अनुसार अपनी मां को खोने की तुलना में 5 गुना अधिक बच्चों ने पिता को खो दिया। शोधकर्ताओं ने कोविड प्रतिक्रिया योजनाओं में बच्चों की देखभाल करने वालों की मौत के प्रभाव को दूर करने तत्काल कार्रवाई का आह्वान किया।

अनाथपन नहीं हो सकता दूर

हमारे निष्कर्ष इन बच्चों को प्राथमिकता देने और साक्ष्य- आधारित कार्यक्रमों और सेवाओं में निवेश करने की तत्काल आवश्यकता को उजागर करते हैं जिससे वे अभी उनकी रक्षा और समर्थन कर सकें और भविष्य में कई सालों तक उनका समर्थन कर सकें, क्योंकि अनाथपन दूर नहीं होता है। - डॉ. सुसन हिलिस, सदस्य, सीडीसी

तनाव से गुजरता है बच्चा

माता-पिता या देखभाल करने वाले व्यक्ति को खोने के बाद कोई भी बच्चा भयानक तनाव से गुजरता है। समय रहते कुछ कदम उठाए जा सकते हैं जो आगे परिस्थितियों को और बिगड़ने से रोक सकते हैं जैसे कि मादक पदार्थ का इस्तेमाल करना। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बच्चे इन सब चीजों से दूर रहे। - नोरा डी वोल्कोव, निदेशक, एनआईडीए