1 मिनट में 1000 राउंड फायर करेगी ‘AK- 521’ रायफल

 13 Jan 2021 01:42 AM

मास्को। रूस की एके-47 बनाने वाली कंपनी कलाशनिकोव कंसर्न ने इससे भी ज्यादा घातक एके-521 को विकसित की है। इस रायफल में 7,6239 और 5,5645 की राउंड्स का इस्तेमाल होगा। एके-521 अपनी सीरीज के पहले की रायफलों की तुलना में अधिक घातक होगी। इस रायफल का मेंटेनेंस भी बेहद कम होगा, जिससे दुर्गम इलाकों में भी सैनिक इनका आसानी से इस्तेमाल कर पाएंगे। माना जा रहा है कि कि यह रूसी कंपनी इस रायफल का भी एक्सपोर्ट वर्जन जल्द ही तैयार करेगी, जिसे दूसरे देशों के सामने पेश किया जाएगा।

ऑपरेशन या मेंटेनेंस के समय

इसमें दरार नहीं आएगी रशियन बियॉन्ड में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, एके-521 में आॅप्टिक्स बाइंडिंग व बैरल के बीच में एक मजबूत धातु का प्रयोग किया गया है, जिससे ऑपरेशन या मेंटेनेंस के समय इसमें दरार नहीं आएगी। अधिकतर रायफलों में यही शिकायत होती है कि ज्यादा इस्तेमाल के दौरान उनके ऑप्टिक्स बाइंडिंग और बैरल के बीच दरार आ जाती है।

500 सीरीज की अन्य रायफलों की तरह अपर व लोवर रिसीवर

500 सीरीज की सभी अन्य रायफलों की तरह इसमें भी अपर और लोवर रिसीवर लगा होगा। इस रायफल में अधिक भार सहन करने वाले सभी पार्ट्स को धातु का बनाया गया है, जबकि रायफल के हत्थे और मैगजीन के आगे होल्डिंग पॉइंट्स पर पॉलिमर का प्रयोग किया गया है। इससे न सिर्फ रायफल को अधिक मजबूती मिलेगी, बल्कि पॉलिमर के प्रयोग से इसे कम भार वाला भी बनाया गया है।

एके-521 का बैरल अन्य की तुलना

में अधिक मजूबत एके-521 की बैरल पहले के रायफलों की तुलना में ज्यादा मजबूत है। इसकी रेंज 800 मीटर तक है। हालांकि, कंपनी ने आधिकारिक रूप से रायफल की रेंज का खुलासा नहीं किया है। विशेषज्ञों का दावा है कि वजन में हल्की होने के कारण यह रायफल भविष्य में युद्धक्षेत्र में लड़ने वाले सैनिकों की पहली पसंद बन सकती है। दूसरा इस रायफल का उपयोग किसी भी मौसम में किया जा सकता है।

एडजेस्टेबल होगा फायरिंग मोड

अमेरिका की एम-4 व एचके 416 रायफलों की तरह इंजीनियरों ने एके-521 में कई फायरिंग मोड दिए हैं। जिससे इसे फायर करने वाला यूजर अपनी जरूरत के हिसाब से सेमी ऑटोमेटिक या ऑटोमेटिक रेंज को सिलेक्ट कर फायरिंग कर सकता है। ऑटोमेटिक रेंज में ब्रस्ट फायरिंग भी की जा सकती है। जिसमें 1 मिनट में कम से कम 1000 गोलियां दागी जा सकेंगी।

सेना ही नहीं आतंकियों की भी पहली पसंद है

एके-47 बता दें कि एके-47 रायफल को दुनियाभर के 30 से ज्यादा देश अपनी सेना में प्रयोग करते हैं। मुख्य रूप से 8 पार्ट्स से मिलकर बनी एके-47 रायफल का मेंटेनेंस बहुत कम होता है। इसलिए आतंकी भी इस रायफल का खूब प्रयोग करते हैं। बता दें कि एके-47 से एक मिनट में 600 राउंड ही फायरिंग की जा सकती है और इसकी मैग्जीन में एक बार में 30 गोलियां भरी जा सकती हैं।

विशेषताओं पर एक नजर...

􀂄 एके- 521 का मेंटेनेंस भी कम होगा।

􀂄 ऑप्टिक्स  बाइंडिंग व बैरल के बीच दरार की समस्या नहीं होगी।

􀂄 इस रायफल का प्रयोग किसी भी मौसम में किया जा सकता है।