ब्रिटेन में अभी रोज मिल रहे 50 हजार कोरोना मरीज, फिर भी मना फ्रीडम डे

 20 Jul 2021 12:41 AM

लंदन। ब्रिटेन में करीब एक साल से ज्यादा समय तक लागू रहे लॉकडाउन, मास्क संबंधी अनिवार्यता और कोरोना से संबंधित पाबंदियां सोमवार से हटा ली गई हैं। हालांकि अभी भी कोरोना के मामले ब्रिटेन में रोज करीब 50 हजार आ रहे हैं। ब्रिटेन में पाबंदियां हटने से वैज्ञानिकों ने चिंता जताई है। इसबीच ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने ट्विटर पर साझा किए वीडियो संदेश में पाबंदियां हटाने की घोषणा की। हालांकि उन्होंने कहा, कोरोना अभी भी हमारे बीच, बचने के लिए नियमों का पालन करें। इधर जैसे ही ब्रिटेन में सोमवार को पाबंदियां हटीं तो यहां सड़कों से लेकर बार और नाइटक्लब और डांस μलोर पर लोगों ने इस स्वतंत्रता का जमकर जश्न मनाया।

जॉनसन के फैसले से पड़ोसी देश असहमत

ब्रिटिश के फैसले से वेल्स, स्कॉटलैंड, और नॉर्दर्न आयरलैंड की प्रांतीय सरकारें सहमत नहीं हुई हैं। उन्होंने अपने यहां प्रतिबंधों को जारी रखने का फैसला किया है। इसका मतलब हुआ कि बोरिस जॉनसन सरकार का

राहत: अब कोरोना पॉजिटिव लोगों पर लागू होगा नियम

􀂄 ब्रिटेन में अब मास्क पहनने की अनिवार्यता और लोगों के इकट्ठा होने पर सीमा हटा ली गई है। सोशल डिस्टेंसिंग के नियम अब सिर्फ कोरोना पॉजिटिव लोगों के मामले में ही लागू होंगे। साथ ही हवाई अड्डों पर इन नियमों का पहले की तरह पालन होता होगा। जानकारों का कहना है कि इस फैसले से सबसे ज्यादा फायदा होटल और पर्यटन उद्योग को होगा।

ब्रटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने वीडियो संदेश में लोगों को अलर्ट करते कहा कि हम बड़े स्तर पर प्रतिबंधों को हटा रहे हैं, जो उचित समय है। अगर अभी ऐसा नहीं करते तो हमें शरद ऋतु और सर्दियों के महीने में सबकुछ खोलना पड़ेगा और तब वायरस को ठंड के कारण फायदा होगा।

खतरा: ब्रिटेन में 10 लाख लोग लॉन्ग कोविड से पीड़ित

􀂄 सरकार के फैसले से दूसरी सामाजिक समस्याएं भी खड़ी हो सकती हैं। यूनिवर्सिटी आॅफ ससेक्स में सामाजिक मनोविज्ञान के प्रोफेसर जॉन ड्रुरी का कहना है कि वैक्सीन के कारण लॉन्ग कोविड (कोरोना संक्रमण के लंबे समय तक टिकने वाले लक्षण) से कितना बचाव होता है, यह भी स्पष्ट नहीं है। ब्रिटेन में अभी 10 लाख से ज्यादा लोग लॉन्ग कोविड की समस्या से जूझ रहे हैं।