काबुल एयरपोर्ट पर 7 बम धमाकों से दहल उठी दुनिया, 13 अमेरिकी सैनिकों समेत 72 की मौत

 27 Aug 2021 09:12 AM

दुनिया की इस समय की सबसे बड़ी खबर यह है कि अफगानिस्तान के काबुल एयरपोर्ट पर सीरियल बम धमाके हुए हैं। इन धमाको में 13 अमेरिकी सैनिकों समेत कुल 72 लोगों की मौत हो गई है और बड़ी संख्या में लोग घायल हैं। अमेरिका ने इस हमले में अपने भी सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि की है। लगातार हुए बम धमाकों से आशंका जताई जा रही है कि मौतों का आंकड़ा और भी बढ़ सकता है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस हमले के बाद आतंकियों को चेताया हुए कहा है कि न भूलेंगे, न माफ करेंगे, चुन-चुन कर मारेंग। 

आईएसआईएस ने ली हमले की जिम्मेदारी
पहला धमाका काबुल एयरपोर्ट के ऐबे गेट के पास हुआ। ये उन चार गेटों में से एक है, जहां से लोग एयरपोर्ट के अंदर जाते हैं, जबकि दूसरा धमाका एयरपोर्ट से करीब डेढ़ किलीमीटर दूर एक होटल के पास हुआ। ये हमला आत्मघाती हमलावरों ने किया है। इस हमले की जिम्मेदारी आईएसआईएस खुरासान ने ली है। खुरासान का मतलब उस इलाके से है, जिसके रास्ते कट्टर इस्लामिक ताकतें पूरी दुनिया में इस्लाम को स्थापित करने का सपना देखती है।

अमेरिका के पास थी हमले की सही जानकारी
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इस हमले की आशंका एक दिन पहले ही जता दी थी। अमेरिका की इंटेलिजेंस यूनिट ने भी एक अलर्ट जारी करते हुए अपने नागरिकों को काबुल एयरपोर्ट से दूर रहने के लिए कहा था। इस अलर्ट में ये भी कहा गया था कि जो लोग काबुल एयरपोर्ट के ऐबे गेट, नॉर्थ गेट और ईस्ट गेट पर खड़े हैं, उन्हें तुरंत वहां से हट जाना चाहिए, क्योंकि वहां बड़ा धमाका हो सकता है। अब ऐबे गेट के पास ही धमाका हुआ है। इससे पता चलता है कि अमेरिका के पास इस आतंकवादी हमले की बिल्कुल सही जानकारी थी।

नाटो देशों ने जताई थी हमले की आशंका
सुबह से काबुल एयरपोर्ट के चारों गेट बंद थे, क्योंकि अमेरिका और नाटो देशों को इस तरह के आतंकवादी हमले की आशंका थी। अमेरिका के रक्षा मंत्रालय ने भी इस धमाके की पुष्टि कर दी है और कहा है कि अभी और ऐसे धमाके हो सकते हैं। इसलिए अमेरिका ने अपने नागरिकों को पहले ही एयरपोर्ट से दूर रहने के लिए कह दिया था।