एस्ट्राजेनेका के टीके से प्लेटलेट में कमी होने का खतरा बेहद कम

 10 Jun 2021 12:00 AM

लंदन। कोरोना से बचाव के लिए विकसित ऑक्सफोर्ड- एस्ट्राजेनेका टीके का संबंध खून में प्लेटलेट कमी होने से हो सकता है, लेकिन यह खतरा बेहद कम है। इसका खुलासा ब्रिटेन स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग द्वारा किए गए एक अध्ययन में हुआ। भारत में इस टीके को कोविशील्ड के नाम से जाना जाता है। रिसर्चर्स ने बताया, इस बढ़े हुए खतरे को आइडियोपैथिक थ्रोम्बोसाइटोपिनक प्यूप्यूरा (आईटीपी) के नाम से जानते हैं और आकलन है कि यह स्थिति प्रति 10 लाख खुराक में 11 मामलों में हो सकती है, जो लू, खसरा, मम्प रुबेला टीके लगाने पर आने वाले मामलों के बराबर ही है। उन्होंने बताया, प्लेटलेट की संख्या कम होने रक्त कोशिकाएं जो नसों के क्षतिग्रस्त होने पर खून गिरने से रोकती हैं- इससे कोई लक्षण सामने नहीं आ सकते है या फिर स्राव या कुछ मामलों में खून का थक्का जमने की स्थिति उत्पन्न होने का खतरा बढ़ सकता है।