ब्रिटेन में 2030 से पेट्रोल-डीजल कारों की बिक्री पर लगाने जा रहा बैन

 18 Nov 2020 07:29 PM

लंदन। वातावरण को प्रदूषण से बचाने के लिए ब्रिटिश सरकार बड़ा कदम उठाने जा रही है। सरकार ने घोषणा की है कि देश में 2030 के बाद ब्रिटेन में डीजल और पेट्रोल कारों की बिक्री नहीं हो सकेगी। ब्रिटेन सरकार की पेट्रोल-डीजल कारों पर बैन लगाने की योजना पहले 2040 में लागू होनी थी, लेकिन अब इसे प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के 10 सूत्रीय योजना के तहत कर दिया गया है। सरकार ने कहा है कि वह इस पूरी योजना पर 12 अरब पाउंड खर्च करने जा रही है। सरकार ने दावा किया है कि इस फैसले से ब्रिटेन में करीब ढाई लाख रोजगार के मौके भी पैदा हो सकेंगे। वर्तमान समय में ब्रिटेन की सड़कों पर एक प्रतिशत से भी कम कारें इलेक्ट्रिक हैं। 

प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन का दावा है कि ग्रीन इंडस्ट्रियल रिवॉल्यूशन के लिए बनाई गई उनकी योजना से ढाई लाख नौकरियां भी पैदा होंगी। प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा - हमारी ग्रीन इंडस्ट्रियल रिवॉल्यूशन स्कॉटलैंड और नॉर्थ ईस्ट की विंड टरबाइनों से संचालित की जाएगी, जो मिडलैंड्स में बनाए गए इलेक्ट्रिक वाहनों से प्रेरित है और वेल्स में विकसित लेटेस्ट टेक्नोलॉजी द्वारा डेवलेप की गई है। इस वजह से हम अधिक समृद्ध और हरियालीपूर्ण भविष्य की कामना कर सकते हैं। प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने आगे कहा - हमारी 10-सूत्रीय योजना से हजारों ग्रीन रोजगार उत्पन्न होंगे। इसके साथ ही देश को साल 2050 तक शून्य उत्सर्जन बनाने में मदद मिलेगी। 

वहीं डीजल-पेट्रोल करों को सड़कों से हटाने की तारीख में एकदम से 10 साल की कमी करने पर  आॅटोमोबाइल एसोसिएशन के अध्यक्ष एडमंड किंग ने कहा है कि सही बुनियादी ढांचे के विकास के लिए प्रतिबद्धता के बिना, योजना सिर्फ आशावादी है। उन्होंने फैसले का विरोध करते हुए बताया कि सभी इलेक्ट्रोनिक वाहनों की तरह बढ़ना चाहते हैं, लेकिन सरकार किसी एक तारीख को अचानक से तय नहीं कर सकती है।