मोदी के साथ निकटता से काम करने के इच्छुक हैं जो बाइडन

 19 Nov 2020 01:25 AM

वाशिंगटन। अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि वह कोविड- 19 महामारी से पार पाने, वैश्विक अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कदम उठाने और एक सुरक्षित एवं समृद्ध हिंद- प्रशांत क्षेत्र को बनाए रखने सहित सभी साझा वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ मिल कर काम करने के इच्छुक हैं। बाइडन के सत्ता हस्तांतरण दल ने यह जानकारी दी। बाइडन और निर्वाचित उप राष्ट्रपति कमला हैरिस के सत्ता हस्तांतरण दल ने बताया, निर्वाचित राष्ट्रपति ने कहा है कि वह कोविड- 19 महामारी से पार पाने और भविष्य में आने वाले स्वास्थ्य संकटों से बचाव की तैयारी करने,जलवायु परिवर्तन के खतरे से निपटने, वैश्विक अर्थव्यवस्था की पुनर्बहाली के लिए कदम उठाने, देश में तथा विदेशों में लोकतंत्र को मजबूत करने और एक सुरक्षित एवं समृद्ध हिंद- प्रशांत क्षेत्र को बनाए रखने सहित सभी साझा वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ मिल कर काम करने के इच्छुक हैं। दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत के बाद जारी बयान के अनुसार बाइडन ने प्रधानमंत्री मोदी की बधाई के लिए उनका आभार व्यक्त किया और दक्षिण एशियाई मूल की पहली उपराष्ट्रपति के साथ मिल कर अमेरिका और भारत के बीच रणनीतिक साझेदारी को प्रगाढ़ करने और उसे विस्तार देने की इच्छा व्यक्त की है।

भारतवंशियों को कैबिनेट में मिलेगी जगह

अमेरिका के पूर्व सर्जन जनरल विवेक मूर्ति समेत दो प्रमुख भारतीय- अमेरिकियों को अगले बाइडन-हैरिस प्रशासन की कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है। द वाशिंगटन पोस्ट और पॉलिटिको ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 से निपटने को लेकर निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के शीर्ष भारतीय-अमेरिकी सलाहकार मूर्ति स्वास्थ्य एवं मानव सेवा मंत्री बनाए जा सकते हैं और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अरुण मजूमदार को ऊर्जा मंत्री बनाया जा सकता है। ऊर्जा मंत्री पद के लिए पूर्व ऊर्जा मंत्री अर्नेस्ट मोनिज, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधार्थी डैन रीचर और पूर्व उप ऊर्जा मंत्री एलिजाबेथ शेरवुड रैंडल भी दावेदार हैं।