वैक्सीन के बाद न पीएं शराब, तनाव से रहें दूर

 17 Jan 2021 01:20 AM

वाशिंगटन। देशभर में शनिवार से शुरू हुए टीकाकरण में जिन लोगों ने टीका लगवाया है, उनके लिए अपनी दिनचर्या पर ध्यान देना सबसे जरूरी है, ताकि उन्हें लगने वाला टीका बेहतर असर दिखा सके। वैज्ञानिक अध्ययन यह साबित कर चुके हैं कि अगर ऐसे लोग तनावमुक्त रहकर स्वस्थ दिनचर्या का पालन करेंगे, शराब जैसे नशे से दूर रहेंगे तो टीका उन पर शत- प्रतिशत असर कर सकता है। उल्लेखनीय है कि भारत में कोविशील्ड और कोवैक्सीन की कोरोना वैक्सीन का टीका से लगाना शुरू हो गया है, यह दो टीके दो-दो खुराकों वाले हैं। पहली खुराक लेने के 28 दिन के बाद दूसरी खुराक दी जानी है, जिसके 14 दिन के बाद ही टीके से शरीर में प्रतिरक्षा पैदा होनी शुरू होगी। यह प्रतिरक्षा धीरे-धीरे बढ़ेगी, इसलिए जरूरी है कि कोई भी व्यक्ति लापरवाही न करें। विदित है कि शनिवार को पहले दिन 1 लाख 65 हजार 714 लोगों को कोरोना की वैक्सीन दी गई। हालांकि यह टारगेट 3 लाख लोगों का था।

दो माह न पीएं शराब

रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय के गमालिया इंस्टीट्यूट आॅफ एपिडेमोलॉजी के अनुसार, शराब हमारे शरीर की इम्युनिटी कम कर देती है। टीके का प्रभाव खत्म होने की भी आशंका है। टीका लेने के कम से कम दो महीने तक लोग शराब न पिएं।

फिलहाल टालें यात्रा

ब्रिटेन के आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने सलाह दी है कि टीका लगवाने के बाद कुछ समय के लिए यात्रा टाल दें, क्योंकि कोई यह सोचकर यात्रा की योजना बना रहा है कि अब वायरस का हमला नहीं हो सकता तो उसे सतर्क हो जाना चाहिए, क्योंकि खतरा अभी टला नहीं है।

अफवाहों से रहें दूर

आस्ट्रेलिया स्थित क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के अनुसार टीका लगने के बाद शरीर सामान्य रूप से काम करे इसके लिए जरूरी है कि लोग टीके से जुड़ी अफवाहों से दूर रहें। खुद को तथ्यात्मक सूचनाओं से अपडेट रखें और विश्वास करें।

अपनों से दूरी बनाएं

जॉर्ज वॉशिंगटन विश्वविद्यालय ने सलाह दी है कि लोगों को समझना होगा कि टीका उन्हें तो बचाएगा पर यह अपनों की सुरक्षा की गारंटी नहीं है। लोगों को टीका लगवाने के बाद कुछ समय के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।

भारत बायोटेक ने कहा- कोवैक्सीन से साइड इफेक्ट हुआ तो देंगे मुआवजा

हैदराबाद। देश में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण अभियान शनिवार सुबह से शुरू हो गया। कांग्रेस द्वारा वैक्सीन पर सवाल खड़े किए जाने के बीच भारत बायोटेक ने बड़ा ऐलान किया। कोवैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक का कहना है कि यदि इससे साइड इफेक्ट होता है तो फिर मुआवजा मिलेगा। भारत बायोटेक से केंद्र सरकार ने 55 लाख खुराकें अभी खरीदी हैं और शनिवार से शुरू हुए टीकाकरण में उसका इस्तेमाल भी हो रहा है। टीका लगवाने वाले लोगों द्वारा जिस फॉर्म पर हस्ताक्षर किए जा हैं, उस पर भारत बायोटेक ने कहा है, किसी प्रतिकूल या गंभीर प्रतिकूल प्रभाव की स्थिति में आपको