रोज मीट खाने से 44% बढ़ जाता है डिमेंशिया का खतरा

 06 Apr 2021 01:42 AM

लंदन। प्रोसेस्ड मीट जैसे सॉसेज, बेकन एवं बर्गर खाने से डिमेंशिया होने का जोखिम बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। लीड्स यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन से यह पता चला है कि रोज बेकन का महज एक टुकड़ा खाने से आपको डिमेंशिया का जोखिम 44 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। हालांकि अध्ययन करने वाले वैज्ञानिकों ने यह भी पाया है कि बीफ, पोर्क एवं वील जैसे गैर- प्रसंस्कृत मीट खाने से डिमेंशिया बीमारी से सुरक्षा भी मिल सकती है।

नॉन प्रोसेस्ड मीट में जोखिम 20 प्रतिशत कम

अध्ययन में यह पाया गया है कि ऐसे लोग जो रोज 25 ग्राम प्रसंस्कृत मीट का सेवन करते हैं उनमें इस बीमारी के विकसित होने के अवसर 44 प्रतिशत ज्यादा होते हैं, लेकिन जो लोग रोज 50 ग्राम अप्रसंस्कृत मीट का सेवन का करते हैं उनमें डिमेंशिया विकसित होने के चांस लगभग 20 प्रतिशत कम होते हैं।

पांच लाख लोगों के डाटा का किया गया विश्लेषण : इस संबंध में लीड्स यूनिवर्सिटी के द्वारा अध्ययन किया गया, जिसमें पांच लाख लोगों के डाटा का विश्लेषण कर मीट खाने से डिमेंशिया रोग होने के बीच संभावित संबंध होने का पता लगाने की कोशिश की गई। अध्ययन के तहत ब्रिटेन के बॉयो बैंक में मौजूद 2006 से 2010 के बीच के 40 से 69 वर्ष आयु समूह के पांच लाख लोगों के डाटा का अध्ययन किया गया। ये नतीजे अमेरिकन जर्नल आॅफ क्लीनिकल न्यूट्रीशन में प्रकाशित किए गए हैं।

मीट का डिमेंशिया से संबंध स्थापित करने की दिशा में पहला कदम : इस रिसर्च को सुपरवाइज करने वाली प्रोफेसर जेनेट काडे का कहना है कि हम जो खाते हैं उससे डिमेंशिया होने के जोखिम पर क्या असर पड़ सकता है यह जानने की दिशा में यह पहला कदम है। इस अध्ययन में रिसर्चर्स ने विभिन्न प्रकार के मीट खाने से डिमेंशिया होने के जोखिम के बीच संबंध का विश्लेषण किया।