भारत में कोरोना की रोकथाम के लिए डॉ. फाउची ने बताए 3 स्टेप फॉर्मूले, देश में कुछ सप्ताह शटडाउन की दी सलाह

 01 May 2021 11:17 AM

वॉशिंगटन। भारत में कोरोना के हालात बेकाबू हो रहे हैं। देश में करीब एक सप्ताह से हर रोज 3 लाख से ज्यादा नए कोरोना के पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं। इसी बीच वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस पर काम कर रहे डॉ. एंथोनी एस फाउची ने भारत की स्थिति पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने देश में वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ हफ्तों के शटडाउन की सलाह दी है। इस दौरान उन्होंने देश में टीकाकरण की स्थिति पर भी बात की। डॉ. फाउची अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन के मुख्य चिकित्सा सलाहकार हैं।

यह है डॉ. फाउची के फॉर्मूले
अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में डॉ. फाउची ने देश में कोविड स्थिति को नियंत्रित करने के लिए तीन चरणों-तत्काल, मध्यम और लंबी अवधि के उपायों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इस समय लोगों को टीका लगाया जाना बेहद जरूरी है। वहीं, ऑक्सीजन और दूसरी स्वास्थ्य खामियों से उबरने के लिए उन्होंने आयोग या आपातकालीन समूह तैयार करने की बात कही है। उन्होंने कहा, ‘ये प्लान बनाएंगे कि ऑक्सीजन कैसे प्राप्त करना है, कैसे हमे सप्लाई मिलेगी, कैसे दवा मिलेगी।’ डॉक्टर फाउची ने विश्व स्वास्थ्य और अन्य देशों से बातचीत करने की सलाह दी है।

मध्यम स्तर पर काम करने के लिए उन्होंने कहा कि अस्पताल जल्द से जल्द बनाए जाने चाहिए। उन्होंने युद्ध के दौरान फील्ड अस्पताल जैसे मॉडल की बात कही है। उन्होंने चीन का उदाहरण दिया। साथ ही अमेरिका का अनुभव साझा करते हुए भारत में सेना की मदद लेने की सलाह दी है। इसके बाद लंबी अवधि को उपाय को लेकर डॉ. फाउची ने कहा है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका लगाया जाना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि पहले तत्काल परेशानी को समझें, फिर मध्यम स्तर की चीजों को शुरू करें, इसके बाद वैक्सीन के संबंध में लंभी अवधि के उपायों के बारे में सोचें।

भारत में कोविड रोकथाम के लिए डॉ. फाउची ने लॉकडाउन को जरूरी बताया है। एक अखबार के साथ हुई बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि आपको 6 महीने के लिए शटडाउन करने की जरूरत नहीं है। आप ट्रांसमिशन को रोकने के लिए अस्थाई रूप से शटडाउन कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि किसी को नहीं पसंद की देश को बंद किया जाए, लेकिन ऐसा तब होता है जब आप तालाबंदी 6 महीनों के लिए करते हैं। उन्होंने बताया कि अगर आप इसे केवल कुछ हफ्तों के लिए करेंगे, तो इसका हालात पर काफी असर पड़ेगा।