नई स्टडी में दावा: ब्रह्मांड का डार्क मैटर असल में है ही नहीं

 11 Jan 2021 01:56 AM

वॉशिंगटन। ब्रह्मांड को लेकर ऐसे कई सवाल हैं, जिनके जवाब आज भी इंसान ढूंढ रहा है। जिन बातों का सबूत नहीं मिल पाता उन पर कोई न कोई थ्योरी होती है, लेकिन विज्ञान जगत की खूबसूरती यही है कि हर नई खोज किसी नई संभावना की ओर ले जाती है और पहले की थ्योरी पुरानी हो जाती है। ऐसा ही कुछ होता दिख रहा है ‘डार्क मैटर’ के साथ। अभी तक माना जा रहा था कि आकाश गंगाओं के अंदर सितारों के अजीब व्यवहार के पीछे वजह डार्क मैटर का गुरुत्वाकर्षण होता है। हालांकि, अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम के मुताबिक ऐसा कुछ है ही नहीं। क्या होता है डार्क मैटर? डार्क मैटर ऐसे अज्ञात तत्वों को कहते हैं जो आम मैटर से सिर्फ गुरुत्वाकर्षण के जरिए इंटरैक्ट करता है। यह न ही रोशनी का उत्सर्जन करता है, न रिलेक्ट करता है और न उसे सोखता है। इसे कभी सीधे तौर पर डिटेक्ट भी नहीं किया जा सका है। अब रिसर्चर्स को एक एक्सटर्नल फील्ड इफेक्ट (ईएफई) मिला है, जो कमजोर गुरुत्वाकर्षण की तरंग होती है। इसे 150 से ज्यादा आकाशगंगाओं के सितारों की आर्बिटल स्पीड में आब्जर्व किया गया है।

पुरानी थ्योरी पर उठ रहे सवालिया निशान

स्टडी के मुताबिक यह डार्क मैटर की थ्योरी के साथ मेल नहीं खाता, बल्कि मॉडीफाई न्यूटोनियन डायनामिक्स (एमओएनडी) या मॉडिफाइड ग्रैविटी से जरूर मिलता है। इस थ्योरी के मुताबिक किसी खगोलीय आॅब्जेक्ट के अंदर होने वाला मोशन सिर्फ उसे द्रव्यमान पर निर्भर नहीं करता, बल्कि दूसरे आॅब्जेक्ट्स के गुरुत्वाकर्षण पर भी करता है। इसे एक्सटर्नल फील्ड इफेक्ट कहते हैं।

आज तक नहीं दिया जा सका कोई सबूत

डार्क मैटर या मिसिंग मैटर का कॉन्सेप्ट 1933 में आया था, जब यह खोज की गई थी कि कोमा क्लस्टर की गैलेक्सियों में सभी सितारों के कुल द्रव्यमान के सिर्फ एक प्रतिशत का इस्तेमाल पूरे क्लस्टर के गुरुत्वाकर्षण से बाहर निकलने से रोकने के लिए किया जा रहा था। इसके दशकों बाद 1970 में ऐस्ट्रोनॉमर वेरा रूबिन और केंट फोर्ड ने सितारों की अजीब कक्षा खोजी। विज्ञान जगत ने इसके बाद डार्क मैटर के द्रव्यमान को इस अजीब व्यवहार का जिम्मेदार माना। एक्सपर्ट्स का मानना है कि ब्रह्मांड का 85 प्रतिशत हिस्सा ‘डार्क मैटर’ ही है, लेकिन इसका कोई सबूत कभी नहीं दिया जा सका है। हालांकि, स्टडी करने वाली टीम का कहना है कि ऐसे व्यवहार के लिए किसी अनदेखी चीज को नहीं बल्कि ग्रैविटी में होने वाले बदलाव को जिम्मेदार माना जाना चाहिए।