बाइडेन से जीत छीनने की रणनीति बनाने में जुटे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

 22 Nov 2020 01:39 AM

वॉशिंगटन। मिशिगन के रिपब्लिकन सांसदों की शुक्रवार को वाइट हाउस में पेशी हुई। दरअसल, चुनाव में हार चुके अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अब तक कुर्सी बचाने की जुगत में लगे हैं। अब मिशिगन के सांसदों से कहा जा रहा है कि मिशिगन के 16 वोट ट्रंप को दिए जाएं। रिपब्लिकन खेमा अभी भी यह दावा कर रहा है कि चुनाव में धांधली की गई जबकि कोर्ट में यह साबित नहीं किया जा सका है। ऐसा ही 20 इलेक्टोरल वोट वाले पेन्सिल्वेनिया व 10 वोट वाले विस्कॉन्सिन में किया जा रहा है। यहां बाइडेन की जीत हो चुकी है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर ट्रंप 46 इलेक्टोरल वोटों का उलटफेर कर लेते हैं तो उनके लिए वाइट हाउस में बने रहने की संभावना रहेगी। कई राजनीतिक विश्लेषक इसे तख्तापलट मानते हैं। कांग्रेस के पूर्व काउंसल रहे डैनियल गोल्डमैन ने चेतावनी दी है, कानूनी चुनौतियां खत्म हो चुकी हैं। ट्रंप को एहसास है कि अदालतों से फायदा नहीं होगा, इसलिए वह चुने हुए अधिकारियों को लोगों के फैसले को पलटने के लिए मनाने में जुटे हैं। डैनियल का कहना है कि यह राजनीतिक तख्तापलट ही लोकतंत्रविरो धी होने की परिभाषा है।

आक्रामक होते जा रहे तेवर: यही नहीं, ट्रंप से जुड़े लोग अपने फॉलोअर्स से देश को फिर से हासिल करने की अपील कर रहे हैं। इसे उग्रवाद को उकसाने की कोशिश माना जा रहा है। ट्रंप किस हद तक जीतने हासिल करने की कोशिश में जुटे हैं, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उनके गुस्से का शिकार रिपब्लिकन नेता भी हो रहे हैं। दरअसल, रिपब्लिकन खेमे में ऐसे भी लोग हैं जो ट्रंप की इन कोशिशों का विरोध कर रहे हैं। ट्रंप ने धमकी दी है कि उन्हें पार्टी के आंतरिक चुनावों में हरा दिया जाएगा।

विशेषज्ञ भी चिंतित : ट्रंप के वकील अदालतों में करीब 30 केस हार चुके हैं और अभी भी वे ऐसे दावे किए जा रहे हैं जिन्हें वह कोर्ट में साबित नहीं कर पाते या पेश ही नहीं करते। एक ओर जहां इसे लेकर मजाक किए जा रहे हैं, वहीं विशेषज्ञ भी चिंतित हैं।

सत्ता हस्तांतरण के लिए संवैधानिक रूप से आवश्यक हर कदम उठाया: व्हाइट हाउस

व्हाइट हाउस की ओर से शुक्रवार को कहा गया कि राष्ट्रपति सत्ता हस्तांतरण कानून के तहत संवैधानिक रूप से जो भी आवश्यक है वह सब ट्रंप प्रशासन ने किया है। जो बाइडेन को पेन्सिल्वेनिया, मिशिगन व विस्कोंसिन में जीत के बाद 7 नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव का विजेता घोषित कर दिया गया था। बाइडेन के पास 306 इलेक्टोरल वोट हैं और ट्रंप के पास 232 इलेक्टोरल वोट। व्हाइट हाउस तक की दौड़ जीतने के लिए कम से कम 270 इलेक्टोरल वोट की जरूरत होती है। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कायली मैकनेनी ने संवाददाताओं से कहा, राष्ट्रपति सत्ता हस्तांतरण कानून यह बताता है कि चुनाव की आगे की प्रक्रिया में प्रशासन को क्या करना है? संवैधानिक रूप से जो भी आवश्यक है वह सब हमने किया है और करना जारी रखेंगे। राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा हार नहीं मानने तथा चुनाव प्रमाण पत्र के अभाव के कारण जनरल सर्विसेस एडमिनिस्ट्रेशन ने आगामी प्रशासन के लिए सत्ता हस्तांतरण की प्रक्रिया सुगम बनाने की खातिर आवश्यक कदम नहीं उठाए हैं।