अमेरिका ने प्रवासी वीजा की प्रीमियम प्रोसेसिंग फीस 75 फीसदी तक बढ़ाई, कल से लागू होंगी नई दरें

 18 Oct 2020 12:02 PM  123
नई दिल्ली। अमेरिका ने प्रवासी वीजा की प्रीमियम प्रोसेसिंग के लिए ली जाने वाली फीस में 75 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी कर दी है। इसका असर एच-1बी वीजा और इनके परिवार वालों के वीजा आवेदनों पर पड़ेगा। यूएस सिटीजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेज (यूएससीआईसी) की ओर से जारी बयान के मुताबिक, 19 अक्टूबर से नई दरें लागू हो जाएंगी।
जानकारी के मुताबिक, अब प्रीमियम प्रोसेसिंग के लिए 1440 डॉलर के बजाए 2500 डॉलर का भुगतान करना होगा। एच2बी और आर1 को छोड़कर अन्य सभी प्रकार के वीजा आवेदनों की प्रीमियम प्रोसेसिंग पर यह फीस देनी होगी। वहीं, एच2बी और आर1 वीजा आवेदनों की प्रोसेसिंग फीस बढ़ोतरी के बाद 1500 डॉलर हो गई है।
वीजा आवेदनों पर जल्द फैसले के लिए प्रीमियम प्रोसेसिंग फीस का भुगतान किया जाता है। यदि प्रीमियम फीस का भुगतान ना किया जाए तो वीजा आवेदन पर फैसले में महीनों का समय लगता है। यह भारतीय रेलवे के तत्काल रेल टिकट जैसा सिस्टम है।
इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारत की आईटी कंपनियां अमेरिका में हायरिंग बढ़ा रही हैं। प्रीमियम प्रोसेसिंग फीस में बढ़ोतरी से इन आईटी कंपनियों की शॉर्ट टर्म अवधि में लागत बढ़ेगी। इसके अलावा वीजा संबंधी मुद्दों में भी बढ़ोतरी होगी।