अमेरिकी स्पेस कमांड का सीक्रेट प्रोजेक्ट, अंतरिक्ष में भेजा हथियार

 15 Jun 2021 02:06 AM

वॉशिंगटन। अमेरिकी स्पेस फोर्स ने एक स्पेशल मिलिट्री सैटेलाइट कक्षा में लॉन्च किया है। इसे एक साल में डिजाइन करके बनाया गया है। सैटेलाइट ‘ओडिस्से’ को स्पेस फोर्स की सीक्र२ट, स्पेशल प्रोजेक्ट यूनिट ने लॉन्च किया है। इसे नॉरथ्रॉप ग्रुम्मन पेगासस रॉकेट के साथ स्टारगेजर एल-1011 कैरियर जेट के नीचे लगाया गया और कैलिफोर्निया के वॉन्डेनबर्ग स्पेस फोर्स बेस से लॉन्च किया गया। बताया जा रहा है कि अमेरिका ने इसके जरिए अंतरिक्ष में हथियार भेजे हैं।

अमेरिका का पहला मिशन: स्पेस फोर्स ने ओडिस्से का इस्तेमाल किया, जो एक सर्विलांस सैटेलाइट है, जिसका इस्तेमाल स्पेस में घूम रहे बाहर के आब्जेक्ट्स को डिटेक्ट करना है। टैक आरएल -2 मिशन स्पेस फोर्स की नई स्पेशल प्रोजेक्ट यूनिट का यह पहला मिशन था। स्पेस सफारी हाई-प्रायोरिटी व तेजी से पूरी की जाने वाली जरूरतों के लिए काम करता है। यह 2 हते में डिलिवरी देने के लिए लक्ष्य से बनाया गया है। इसका नाम रैपिड रिस्पॉन्स यूनिट बिग सफारी के नाम पर रखा गया है।

तेजी से काम: एक साल के अंदर किया लॉन्च

स्पेस फोर्स के चीफ आफ स्पेस आपरेशंस जनरल जॉन रेमंड के मुताबिक एक साल पहले उन्होंने अपने संगठन को चैलेंज दिया था कि ऐसी क्षमता तैयार की जा सके जो तय समय में तैयार करके लॉन्च की जा सके। एक साल के अंदर सैटेलाइट कंपोनेंट्स को तैयार किया गया व सैटेलाइट में लॉन्च कर दिया गया। दिलचस्प बात यह रही कि स्पेस फोर्स ने इस लॉन्च का कोई वीडियो शेयर नहीं किया।

दुनिया का पहला प्राइवेटली विकसित कॉमर्शियल स्पेस लॉन्च व्हीकल

अमेरिकी स्पेस फोर्स ने 2019 में रणनीतिक रिस्पॉन्स क्षमता विकसित करने पर काम शुरू किया था। यह दुनिया का पहला प्राइवेटली विकसित कमर्शियल स्पेस लॉन्च व्हीकल है। यह अब तक 45 बार लॉन्च किया जा चुका है और धरती की निचली कक्षा में 90 सैटेलाइट भेज चुका है। अमेरिका चीन और रूस को अंतरिक्ष में अपना प्रतिद्वंदी मानता है और उनसे मिलने वाली चुनौतियों से निपटने की कोशिश में लगातार लगा हुआ है।