साठ साल से अधिक आयु के लोगों का अकेलापन दूर करने में नाकाम रहे वर्चुअल कॉन्टैक्ट माध्यम

 27 Jul 2021 02:44 AM

लंदन कोरोना के दौरान वर्चुअल कॉन्टैक्ट माध्यम ब्रिटेन और अमेरिका में रह रहे 60 साल से अधिक आयु के लोगों के अकेलेपन को दूर करने में नाकाम रहे। सोमवार को संपन्न हुए नए शोध में यह बात कही गई है। ब्रिटेन और कनाडा में समाजशास्त्रियों द्वारा किए गए शोध में कोविड-19 के प्रकोप के बाद अमेरिका में अकेलेपन में उल्लेखनीय वृद्धि और ब्रिटेन में सामान्य मानसिक स्वास्थ में गिरावट देखी गई। शोध में पता चला कि महामारी के दौरान, व्यक्तिगत रूप से मिलने की जगह बातचीत के वर्चुअल माध्यमों जैसे फोन कॉल, संदेश, ऑनलाइन ऑडियो व वीडियो चैट और सोशल मीडिया ने ले ली, लेकिन ये माध्यम मददगार नहीं रहे और इनसे अकेलेपन में इजाफा हुआ।

शोध में अमेरिका और ब्रिटेन के 6,539 बुजुर्ग किए गए शामिल

लैंकेस्टर यूनिवर्सिटी के डॉ यांग हू ने कहा- 'हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि ब्रिटेन और अन्य जगहों पर तेजी से डिजिटलीकरण के बावजूद, सामाजिक संपर्क के डिजिटल साधन वृद्ध लोगों के मानसिक स्वास्थ्य को फायदा पहुंचाने के मामले में व्यक्तिगत संपर्क की जगह नहीं ले सके। शोधकर्ताओं ने ब्रिटेन की आर्थिक एवं सामाजिक अनुसंधान परिषद द्वारा वित्त पोषित कोविड-19 सामाजिक बोध सर्वे और यूएसए स्वास्थ्य एवं सेवानिवृत्त सर्वे के राष्ट्रीय डाटा का विश्लेषण किया। ब्रिटेन में, 60 या उससे अधिक आयु के 5,148 वृद्ध लोगों और अमेरिका में 1,391 लोगों के बारे में जानकारी एकत्रित की गई। दोनों के महामारी से पहले (2018- 19) और महामारी के दौरान (जुलाई 2020) के डेटा का विश्लेषण किया गया। सर्वे मे पता चला कि ब्रिटेन और अमेरिका में रह रहे 60 साल से अधिक आयु के लोगों ने अकेलेपन में बहुत ज्यादा वृद्धि का अनुभव किया।