ब्वाॅयफ्रेंड के लिए बैंक में काम करने वाली युवती ने कई लोगों को लूटा, ऐसे पार कर दिए 11.50 लाख

 27 Jul 2021 07:46 PM

जबलपुर। शहर के बरेला थाना क्षेत्र से लोगों के लाखों रुपए पार करने वाली एक युवती को पकड़ा गया है। युवती बैंक में काम करती थी और अपने ब्वॉयफ्रेंड की मदद करने के लिए लोगों के खातों से पैसे उड़ा देती थी। उसने लोगों के करीब 11.50 पार कर दिए। मंगलवार को युवती व उसके ब्वॉयफ्रेंड को बरेला पुलिस व क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया है।

एसपी ने किया खुलासा

जबलपुर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने मंगलवार को इस हाइटेक ठगी का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि बरेला और क्राइम ब्रांच की टीम ने पीड़ितों की शिकायत के आधार पर बैंक में लिंक किए गए मोबाइल नंबर 8602073470 व 9171008359 को सर्च किया। इसके बाद टीम ने गोहलपुर निवासी संजना गुप्ता पिता हीरालाल गुप्ता (19) और वहीं के 17 वर्षीय उसके ब्वॉयफ्रेंड को गिरफ्तार किया।

ऐसे करती थी चोरी

एसपी ने बताया कि दोनों के पास से पार की गई रकम के 10 हजार रुपए नकद, 1.10 लाख रुपए कीमत के चार मोबाइल, 1.50 लाख रुपए कीमत के खरीदे गए जेवर जब्त किए गए हैं। बाकी जब्ती के लिए आरोपियों को रिमांड पर लिया जा रहा है। बताया गया कि ये जोड़ी लोगों को क्रेडिट कार्ड के फायदे बताकर उनकी आईडी व जरूरी दस्तावेज लेते थे और बाद में दस्तावेजों का गलत इस्तेमाल करते हुए खाते में अपना मोबाइल नंबर लिंक करा देते थे। आरोपी योनो एप के माध्यम से 8 पीड़ितों के खातों से 11.50 लाख रुपए निकाल लिए थे।

संविदा पर बैंक में जॉब करती थी संजना

संजना तीन बहनों में सबसे बड़ी है। पिता साधारण जॉब करते हैं। संजना खुद ग्लोबल कॉलेज से डीएमएलटी की पढ़ाई कर रही है। इसके साथ ही वह महाराजपुर स्थित एसबीआई में संविदा पर योनो एप और क्रेडिट कार्ड का भी काम करती थी। जबकि उसका नाबालिग ब्वॉयफ्रेंड सिलाई का काम करता है। उसने लोन पर ट्रक लिया था। इसके चलते उसे कुछ जेवर गिरवी में रखने पड़े थे। अपने ब्वॉय फ्रेंड की मदद के लिए युवती ने फ्रॉड किए।

ये भी पढ़ें : जुड़वां भाइयों की हत्या मामले में पांचों आरोपियों को उम्रकैद

लोगों के खातों में डाल देती थी अपना नंबर

एसपी के मुताबिक पूछताछ में संजना ने बताया कि वह एसबीआई महाराजपुर में क्रेडिट कार्ड बनाने का काम करती थी। बैंक खाता धारकों से उनके दस्तावेज की फोटोकॉपी प्राप्त ले लेती थी। बाद में इन दस्तावेजों के माध्यम से ग्राहकों से संबंधित बैंक शाखा में जाकर खाता नंबर मेें मोबाइल नंबर बदलवाने के लिए फार्म भरकर खाता धारकों के फर्जी हस्ताक्षर कर अपना मोबाइल नंबर लिंक करवाती थी। इससे खाता की पूरी जानकारी और ओटीपी उसके मोबाइल में आने लगता था। वह अपने मोबाइल पर योनो एप डाउनलोड कर रखा था। ओटीपी अपने 17 साल के ब्वॉयफ्रेंड को बताती थी। वह एटीएम के जरिए से खाते से पैसे निकाल लेता था।

जबलपुर की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें...