मनमाने बिजली बिलों को कम करवाने शिकायत केन्द्रों में भटक रहे उपभोक्ता

 11 Jun 2021 12:13 AM

जबलपुर । बढ़े हुए बिजली बिलों को लेकर इस समय आम नागरिक बहुत परेशान हो रहे हैं। जिनके बिल 100 रुपए आते थे उनके 2 से 3 हजार के ऊपर आ रहे हैं। वहीं सामान्य उपभोक्ताओं के जिनके 2 हजार रुपए तक बिल आते थे 7 से 8 हजार आ रहे हैं। परेशानी का कारण यह है कि जब लोग शिकायत केन्द्रों में बिल संशोधन करवाने पहुंचते हैं तो उन्हें वहां से यह कहकर बैरंग वापस कर दिया जाता है कि बिल तो भरना ही होगा। गर्मी के मौसम में हर घर में बिजली की खपत बढ़ जाती है। इसे देखकर व मीटर रीडिंग के उपरांत ही बिल का निर्धारण होता है। कोरोना के चलते विगत 2 महीने से मीटर रीडर रीडिंग करने नहीं पहुंच रहे हैं या बहुत कम संख्या में ये पहुंच रहे हैं। ऐेसे में बिजली विभाग ने लोगों से अपील भी की थी कि अपने मोबाइल पर मीटर रीडिंग की फोटो लेकर सेंड करें। ज्यादातर यह नहीं कर पाए और अपना सामान्य बिल भरते रहे। इसके बाद एकाएक भारी-भरकम आए बिजली के बिलों ने उनका बजट ही बिगाड़ दिया है।

शिकायत केन्द्रों से नहीं मिल रही राहत

शहर के सभी बिजली कंपनी से संबंधित शिकायत केन्द्रों में इस समय उपभोक्ताओं की भारी भीड़ देखने मिल रही है। जब उनके बिजली बिलसंशोधित नहीं होते तो उनमें असंतोष उत्पन्न हो रहा है और विवाद की स्थितियां भी बन रही हैं। ज्यादातर मामलों में शिकायत केन्द्र प्रभारी स्पष्ट कह रहे हैं कि बिजली बिल तो भरना होगा ज्यादा से ज्यादा हम दो किश्तों में बिल भरने की छूट दे सकते हैं।